बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी का समापन, भारतीय धुनों से गूंजा विजय चौक, आसमान में दिखा अद्भुत नजारा

Beating Retreat
प्रतिरूप फोटो
आपको बता दें कि बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी के साथ ही गणतंत्र दिवस समारोह का समापन होता है। साल 1950 से बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी का आयोजन हो रहा है। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई गणमान्यों में हिस्सा लिया।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी के विजय चौक पर आयोजित बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी के साथ ही गणतंत्र दिवस पर आयोजित समारोह का समापन हो गया। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत कई गणमान्यों में हिस्सा लिया। बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी में भारतीय सेना, नौसेना, वायु सेना और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों के बैंड ने कुल 26 धुनें बजाकर सभी का दिल जीत लिया। 

इसे भी पढ़ें: 32 सालों बाद गणतंत्र दिवस पर कश्मीर घाटी में सर्वाधिक तिरंगे फहराये गये  

ड्रोन शो का हुआ आयोजन

विजय चौक पर तीनों सेनाओं द्वारा बैंड का प्रस्तुति किए जाने के बाद ड्रोन शो का आयोजन हुआ। 10 मिनट तक चलने वाले ड्रोन शो में तकरीबन 1000 ड्रोन ने आसमान में नए भारत का परचम लहराया। इससे पहले लेजर शो का आयोजन हुआ। जिसमें मजबूत हिन्दुस्तान की धरोहर की प्रस्तुति हुई।

आपको बता दें कि बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी के साथ ही गणतंत्र दिवस समारोह का समापन होता है। साल 1950 से बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी का आयोजन हो रहा है और इसमें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पसंदीदा धुन 'अबाइड विथ मी' बजाई जाती है लेकिन आजादी के 75 साल में आयोजित हुई बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी में देशभक्ति गीत 'ऐ मेरे वतन के लोगों' को प्राथमिकता दी गई।

इसे भी पढ़ें: गणतंत्र दिवस पर PM मोदी ने लिखा पत्र, जवाब में Kevin Pietersen ने कहा- इस देश ने दिया है बहुत प्यार 

गौरतलब है कि 'अबाइड विथ मी' की रचना स्कॉटिश एंजलिकन कवि और भजन ज्ञानी हेनरी फ्रांसिस लाइट ने सन 1847 में की थी और साल 1950 से ही यह बीटिंग रिट्रीट समारोह का हिस्सा है। लेकिन भारतीय सेना ने साफ कर दिया था कि इस साल के समारोह में इसे शामिल नहीं किया जाएगा। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़