अमित शाह से मिले भगवंत मान, पंजाब में तैनात होंगी पैरामिलिट्री फोर्स की 10 और कंपनियां

bhagwant maan
ANI
अंकित सिंह । May 19, 2022 3:38PM
दोनों नेताओं के बीच भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट बोर्ड को लेकर भी बात हुई। मान ने कहा कि भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट बोर्ड में पंजाब का कोटा दोबारा शुरू किया जाए, इस बारे में बात हुई। बासमती का MSP को लेकर कोई नोटिफिकेशन नहीं है, इसलिए किसानों को नुकसान न हो, इस संबंध में बात हुई।

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान में आज नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच पंजाब के सुरक्षा को लेकर विस्तृत बातचीत हुई है। इसके साथ ही पंजाब में 10 और पैरामिलिट्री फोर्स की कंपनियां भेजी जाएंगी। अमित शाह से मुलाकात के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि क़ानून व्यवस्था को लेकर पटियाला में जो घटना हुई, इसपर विस्तार से बात हुई। उन्होंने कहा कि पार्टी से ऊपर उठकर राष्ट्रीय सुरक्षा के मामले में सहयोग किया जाएगा। पैरामिलिट्री फोर्स की 10 और कंपनी पंजाब भेजी जाएंगी, 10 कंपनी पहले भेजी जा चुकी हैं। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की बढ़ी मुश्किलें, 1988 रोडवेज मामले में एक साल की कैद

इकसे साथ ही दोनों नेताओं के बीच भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट बोर्ड को लेकर भी बात हुई। मान ने कहा कि भाखड़ा ब्यास मैनेजमेंट बोर्ड में पंजाब का कोटा दोबारा शुरू किया जाए, इस बारे में बात हुई। बासमती का MSP को लेकर कोई नोटिफिकेशन नहीं है, इसलिए किसानों को नुकसान न हो, इस संबंध में बात हुई। 

पंजाब सरकार ने अतिरिक्त केंद्रीय बलों की मांग की, सुरक्षा चुनौतियों को समझा: अमरिंदर

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने दावा किया कि राज्य की आम आदमी पार्टी (आप) सरकार ने केंद्र से अतिरिक्त बलों की मांग की है और ऐसा करने से उसे कड़ी सुरक्षा चुनौतियों का एहसास हुआ है। सिंह ने ‘आप’ को पिछले साल केंद्र सरकार के उस कदम के कड़े विरोध की भी याद दिलाई, जब उसने सीमा सुरक्षा बलों के क्षेत्राधिकार को 15 से 50 किलोमीटर तक बढ़ाने का फैसला किया था। उन्होंने यहां एक बयान में कहा, “उस समय, आप और कांग्रेस दोनों के नेताओं ने केंद्र के फैसले की आलोचना की लेकिन अच्छा है, अब आप को कम से कम उस फैसले की आवश्यकता और महत्व का एहसास हो गया है।”

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़