भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन के लिए जीएमपी के मुद्दों पर ब्राजीली नियामक को नया आवेदन भेजा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2021   12:13
भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन के लिए जीएमपी के मुद्दों पर ब्राजीली नियामक को नया आवेदन भेजा

भारत बायोटेक ने ब्राजील में कोविड-19 रोधी टीके की आपूर्ति करने के लिए प्रमाण पत्र हासिल करने की खातिर वहां अधिकारियों को एक नया अनुरोध भेजा है।

हैदराबाद। भारत बायोटेक ने ब्राजील में कोविड-19 रोधी टीके की आपूर्ति करने के लिए प्रमाण पत्र हासिल करने की खातिर वहां अधिकारियों को एक नया अनुरोध भेजा है। इससे पहले ब्राजील के स्वास्थ्य नियामक ने कंपनी के संयंत्र में ‘वस्तु उत्पादन प्रणाली’ से असंतुष्ट होने पर कोविड टीकों की आपूर्ति की इजाजत देने से इनकार कर दिया था। ब्राजील की राष्ट्रीय स्वास्थ्य निगरानी एजेंसी ‘एनविसा’ के मुताबिक भारत बायोटेक ने 25 मई को अनुरोध भेजा था। इससे एक दिन पहले वहां के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोवैक्सीन की दो करोड़ खुराक के आयात की मंजूरी पाने की खातिर नया आवेदन दिया था।

इसे भी पढ़ें: व्हाइट फंगस के कारण कोरोना मरीज की आंत में हुआ छेद, गंगाराम अस्पताल का मामला

इससे पहले एनविसा के अधिकारियों ने पाया था कि जिस संयंत्र में टीके का उत्पादन किया जाता है, वह ‘वस्तु उत्पादन प्रणाली (जीएमपी)’ की आवश्यकताओं पर खरा नहीं उतरता है जिसके बाद एजेंसी ने कोवैक्सीन आयात करने की इजाजत देने से इनकार कर दिया था।

इसे भी पढ़ें: मालवाहक जहाज में 7 दिनों से लगी हुई है भयानक आग, यूरोपीय अग्निशमन कर्मी आए मदद को आगे

भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने 26 फरवरी को कहा था कि कोवैक्सीन की दो करोड़ खुराकों की आपूर्ति के लिए उसने ब्राजील की सरकार के साथ एक समझौता किया है। उसने बताया था कि ये खुराकें वर्तमान वर्ष की दूसरी और तीसरी तिमाही में भेजी जाएंगी। हालांकि ब्राजील के स्वास्थ्य नियामकों ने जीएमपी मुद्दों के चलते टीकों के आयात से इनकार कर दिया। टीका निर्माता ने पीटीआई-से कहा था कि निरीक्षण के दौरान जिन बिंदुओं को उठाया गया है उन्हें पूरा किया जाएगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।