एसपी-आरएलडी गठबंधन को बड़ा झटका, जेवर से चुनाव लड़ने से अवतार सिंह भड़ाना ने किया इनकार

एसपी-आरएलडी गठबंधन को बड़ा झटका, जेवर से चुनाव लड़ने से अवतार सिंह भड़ाना ने किया इनकार

मिल रही जानकारी के मुताबिक अवतार सिंह भड़ाना कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। इसी वजह से उन्होंने अपना नामांकन वापस ले लिया है। रालोद के जिला अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने बताया कि खराब स्वास्थ्य की वजह से अवतार सिंह भड़ाना को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

नोएडा (उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज है। इन सबके बीच समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के गठबंधन को बड़ा झटका लगा है। दरअसल, मतदान के 20 दिन पहले ही एक कद्दावर नेता ने अपना नामांकन वापस ले लिया है। यह प्रत्याशी हैं अवतार सिंह भड़ाना जिन्हें सपा-आरएलडी गठबंधन ने जेवर से चुनावी मैदान में उतारा था। एन मौके पर अवतार सिंह भड़ाना ने अपना नामांकन वापस ले लिया। फिलहाल जानकारी के मुताबिक अवतार सिंह भड़ाना की जगह जेवर से इंद्रवीर सिंह भाटी को प्रत्याशी बनाया गया है।

मिल रही जानकारी के मुताबिक अवतार सिंह भड़ाना कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। इसी वजह से उन्होंने अपना नामांकन वापस ले लिया है। रालोद के जिला अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने बताया कि खराब स्वास्थ्य की वजह से अवतार सिंह भड़ाना को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसकी वजह से वह चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। हालांकि, अवतार सिंह भड़ाना के चुनाव नहीं लड़ने को लेकर सवाल इसलिए भी उठ रहे हैं क्योंकि उन्होंने जब चुनाव लड़ने से मना किया उससे ठीक 2 घंटे पहले ही अपने ट्विटर के जरिए प्रचार कर रहे थे। यानी कि अवतार सिंह भड़ाना की ओर से यह फैसला अचानक लिया गया है। अवतार सिंह भड़ाना के फैसले को गठबंधन के लिए झटका माना जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: समाजवादी पार्टी का ऐलान, मैनपुरी की करहल सीट से चुनाव लड़ेंगे अखिलेश

आपको बता दें कि अवतार सिंह भड़ाना की गिनती बड़े गुर्जर नेताओं में होती है। इनका राजनीतिक सफर काफी लंबा रहा है। कांग्रेस के टिकट पर वह फरीदाबाद से तीन बार और मेरठ से एक बार सांसद भी रह चुके हैं। 2017 में भाजपा ने मुजफ्फरनगर की मीरापुर सीट से चुनावी मैदान में उतारा था। मीरापुर से अवतार भड़ाना ने काफी कम वोटों से जीत हासिल की थी। 12 जनवरी को अवतार सिंह भड़ाना भाजपा को छोड़ आरएलडी में शामिल हुए थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।