बंगाल भाजपा में बड़ी टूट के आसार, राज्यपाल के साथ शुभेंदु की बैठक से गायब रहे 24 विधायक

बंगाल भाजपा में बड़ी टूट के आसार, राज्यपाल के साथ शुभेंदु की बैठक से गायब रहे 24 विधायक

शुभेंदु अधिकारी के शक्ति प्रदर्शन में इन विधायकों पर शामिल ना होना पार्टी के लिए भी झटका है। दावा किया जा रहा है कि जो विधायक राज्यपाल से मिलने नहीं गए वह ज्यादातर उत्तर बंगाल से आते हैं।

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव भले ही खत्म हो चुका है लेकिन राजनीतिक हलचल अभी भी जारी है। वर्तमान में भाजपा खेमे में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है। नेता लगातार भाजपा का साथ छोड़ रहे हैं। इन सबके बीच सोमवार को ऐसी घटना घटी जिससे भाजपा की चिंता बढ़ सकती है। दरअसल, सोमवार को नेता प्रतिपक्ष और पार्टी के वरिष्ठ नेता शुभेंदु अधिकारी की अगुवाई में सभी विधायकों को राज्यपाल जगदीप धनकड़ से मुलाकात करनी थी और राज्य में हिंसा और रेप का मसला उठाना था। लेकिन इस मुलाकात में शुभेंदु अधिकारी के साथ सिर्फ 50 विधायक ही पहुंचे। जबकि भाजपा के पास फिलहाल 75 विधायक हैं। ऐसे में 2 दर्जन से अधिक इन विधायकों की गैर मौजूदगी को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं।

शुभेंदु अधिकारी के शक्ति प्रदर्शन में इन विधायकों पर शामिल ना होना पार्टी के लिए भी झटका है। दावा किया जा रहा है कि जो विधायक राज्यपाल से मिलने नहीं गए वह ज्यादातर उत्तर बंगाल से आते हैं। माना जा रहा है कि मुकुल रॉय के टीएमसी में शामिल होने के बाद भाजपा के कुछ और नेता तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। दूसरी ओर इसको लेकर शुभेंदु अधिकारी से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इसमें सभी लोगों को नहीं बुलाया गया था।

इसे भी पढ़ें: मुकुल रॉय के खिलाफ दल-बदल कानून के तहत कार्रवाई की मांग करेंगे: शुभेंदु

आपको बता दें कि पिछले दिनों ही भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय ने पार्टी छोड़ अपने पुराने पार्टी तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। इसके बाद से इस बात के कयास लगाए जा रहे है कि भाजपा के कई नेता तृणमूल में शामिल हो सकते हैं। सोनाली गुहा, राजीब बैनर्जी का नाम सबसे आगे चल रहा है। दूसरी ओर इसी सवाल का जवाब प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष से मांगा गया तो उन्होंने कहा कि बीजेपी में रहने के लिए त्याग और तपस्या करना होता है, जिन्हें सत्ता चाहिए वह लोग जा सकते हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।