बीजेपी नेता का दावा, 8 फरवरी को दिल्ली में Ind vs Pak का मुकाबला

बीजेपी नेता का दावा, 8 फरवरी को दिल्ली में Ind vs Pak का मुकाबला

आम आदमी पार्टी से बीजेपी में आए आप सरकार के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने पाकिस्तान को भी दिल्ली के चुनाव में शामिल करा लिया है। कपिल मिश्रा ने कहा है कि 8 फरवरी को दिल्ली की सड़कों पर हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच मुकाबला होगा।

भारतीय राजनीति में शायद ही ऐसा कोई चुनाव हो जिसमें पाकिस्तान का नाम न लिया जाए। चाहे वो लोकसभा का चुनाव हो या विधानसभा का, ऐसे में दिल्ली विधानसभा का चुनाव इससे अछूता कैसे रह सकता था। दिल्ली की 70 सीटों के लिए मतदान 8 फरवरी को है। आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और बीजेपी के बीच ही सत्ता को लेकर मुख्य मुकाबला होता दिख रहा है। इन सब के बीच आम आदमी पार्टी से बीजेपी में आए आप सरकार के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने पाकिस्तान को भी दिल्ली के चुनाव में शामिल करा लिया है। कपिल मिश्रा ने कहा है कि  8 फरवरी को दिल्ली की सड़कों पर हिंदुस्तान और पाकिस्तान के बीच मुकाबला होगा।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली चुनाव में सभी दलों में नेताओं के परिजन मैदान में, कांग्रेस में सर्वाधिक नंबर

कपिल मिश्रा इस बार मॉडल टाउन विधानसभा क्षेत्र से मैदान में हैं। इससे पहले उन्होंने करावल नगर सीट से 44,431 के अंतर से चुनाव में जीत दर्ज की थी। उसके बाद इन्होंने संस्कृत में अपनी शपथ ग्रहण की थी। बाद में अपने ही पार्टी के प्रमुख नेता, अरविंद केजरीवाल पर भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाने के कारण इन्हें आम आदमी पार्टी से निकाल दिया गया। बाद में उन्होंने बीजेपी ज्वाइन कर ली थी। 

इसे भी पढ़ें: शाहीन बाग में सीएए विरोधी प्रदर्शन सुरक्षा को खतरा: विजय गोयल

इससे पहले बी चुनावों में पाकिस्तान की एंट्री होती रही है। लोकसभा चुनाव के दौरान भी भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ही आतंकवाद को उखाड़ फेंककर पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे सकती है। उन्होंने कहा कि सिर्फ और सिर्फ मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ही देश की सुरक्षा कर सकती है। वहीं बिहार चुनाव में भी शाह ने कहा था कि अगर बिहार में बीजेपी हारती है तो पाकिस्तान में पटाखे फोड़कर जश्न मनाया जाएगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।