UP में ब्राह्मण तय करेंगे 2022 के विधानसभा चुनाव की रणनीति: श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या

 Swami Prasad Maurya
सत्य प्रकाश । Jul 31, 2021 8:03PM
अयोध्या पहुंचे प्रदेश के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि दलित मायावती का साथ छोड़ चुके है। बसपा को अब अपने दलित मतदाताओं पर भरोसा नहीं है। ब्राह्मण सबसे ज्यादा इस देश का बुद्धिजीवी और पढ़ा लिखा समझदार मतदाता है।

अयोध्या। उत्तर प्रदेश में इस बार ब्राह्मण समाज 2022 के विधानसभा चुनाव की रणनीति तय कर सकता है। दरअसल अयोध्या पहुंचे योगी सरकार के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या बहुजन समाज पार्टी के द्वारा चलाए जा रहे ब्राह्मण सम्मेलन पर जुबानी हमला बोलते हुए कहा कि अब दलित मतदाताओं पर भरोसा नहीं है क्योंकि दलित बसपा का साथ छोड़ चुके हैं और अब प्रदेश में ब्राह्मण नई रणनीति तय करेगा। 

इसे भी पढ़ें: योगी सरकार के मंत्री का दावा, बाढ़ मुक्त होगा अपना उत्तर प्रदेश 

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में इस बार ब्राह्मण वोट बैंक पर चुनाव की नई दिशा तैयार की जा रही है। प्रदेश में जहां बहुजन समाज पार्टी के द्वारा ब्राह्मण सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है तो वहीं अब समाजवादी पार्टी भी ब्राह्मणों के वोट बैंक को बढ़ाने के लिए समिति का गठन कर विभिन्न प्रकार के आयोजनों के माध्यम से ब्राह्मणों को जुटाने के प्रयास में है। जिसको लेकर भारतीय जनता पार्टी के सरकार में श्रम मंत्री ने भी इस बार प्रदेश में ब्राह्मण समाज को लेकर बड़ा दावा किया है। 

इसे भी पढ़ें: लखनऊ के मंदिर में मिला धमकी भरा पत्र, लिखा- मुजाहिदों को छोड़ो वरना... 

अयोध्या पहुंचे प्रदेश के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि दलित मायावती का साथ छोड़ चुके है। बसपा को अब अपने दलित मतदाताओं पर भरोसा नहीं है। ब्राह्मण सबसे ज्यादा इस देश का बुद्धिजीवी और पढ़ा लिखा समझदार मतदाता है। इसलिए ब्राम्हण किसी के झांसे बहकावे व प्रलोभन में आने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि ब्राह्मण हमेशा देश की दशा व दिशा तय करता है। ब्राह्मण राजनीतिक व सामाजिक स्तर पर उचित अनुचित को अच्छा समझता है और स्वयं अपने विवेक से निर्णय लेता है। वह किसी के झुनझुना बजाने से बच्चों की तरह उसके पीछे नहीं दौड़ेगा। ब्राम्हण स्वयं बहुत समझदार है। वहीं उन्होंने कहा कि बसपा का ब्राह्मण सम्मेलन फ्लॉप शो साबित होगा।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़