कैप्टन ने छोड़ी मुख्यमंत्री की कुर्सी, मंत्रियों ने भी छोड़ा पद, अमरिंदर बोले- भविष्य के लिए विकल्प खुले हुए हैं

कैप्टन ने छोड़ी मुख्यमंत्री की कुर्सी, मंत्रियों ने भी छोड़ा पद, अमरिंदर बोले- भविष्य के लिए विकल्प खुले हुए हैं

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने आवास पर कांग्रेस विधायकों की बैठक बुलाई थी। इस बैठक में करीब 28 विधायक पहुंचे थे। जिसके बाद उनके बेटे रनिंदर सिंह का भी बयान सामने आया। उन्होंने इस बयान साफ कर दिया कि पिता अमरिंदर अपने पद से इस्तीफा देंगे।

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस में घमासान के बीच में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित से राजभवन में मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंपा है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ ही पंजाब के सभी मंत्रियों ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

इसे भी पढ़ें: क्या चंडीगढ़ में दिखेंगे दो नए मुख्यमंत्री ? अमरिंदर के बाद लग सकता है खट्टर का नंबर 

कैप्टन ने क्या कुछ कहा ?

मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि दो महीने में 3 बार दिल्ली बुलाया गया। सुबह सोनिया गांधी से बात कर इस्तीफे की बात बता दी थी। अपने मंत्रियों के साथ मैंने इस्तीफा सौंप दिया है। आलाकमान जिसे चाहे मुख्यमंत्री बना सकता है।

उन्होंने कहा कि भविष्य के लिए विकल्प खुले हुए हैं। हालांकि भाजपा में शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। 

पंजाब मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने बताया कि कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब के राज्यपाल से मुलाकात कर उन्हें अपना और अपने मंत्रिपरिषद का इस्तीफा सौंपा। 

कैप्टन ने की बैठक

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने आवास पर कांग्रेस विधायकों की बैठक बुलाई थी। इस बैठक में करीब 28 विधायक पहुंचे थे। जिसके बाद उनके बेटे रनिंदर सिंह का भी बयान सामने आया। उन्होंने इस बयान साफ कर दिया कि पिता अमरिंदर अपने पद से इस्तीफा देंगे। 

इसे भी पढ़ें: क्या अकेले पड़े कैप्टन अमरिंदर सिंह ? बैठक में सिर्फ 28 विधायक पहुंचे, आलाकमान ने जाने से रोका था 

कांग्रेस विधायक थे असंतुष्ट

आपको बता दें कि कैप्टन अमरिंदर सिंह से नाराज 40 कांग्रेस विधायकों ने पार्टी अध्यक्षा सोनिया गांधी को पत्र लिखा था। जिसके बाद शनिवार की शाम 5 बजे चंडीगढ़ में कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।