पेपर के स्क्रीनशॉट वायरल होने का मामला, सीएम के OSD ने कांग्रेस नेताओं पर करवाई एफआईआर दर्ज

पेपर के स्क्रीनशॉट वायरल होने का मामला, सीएम के OSD ने कांग्रेस नेताओं पर करवाई एफआईआर दर्ज

कांग्रेस नेता केके मिश्रा और आनंद राय ने लक्ष्मण सिंह मरकाम पर आरोप लगाए थे कि लक्ष्मण के मोबाइल से ही शिक्षा वर्ग 3 के पेपर का स्क्रीनशॉट वायरल हुआ है।कांग्रेस नेता केके मिश्रा के आरोप पर मुख्यमंत्री के OSD लक्ष्मण सिंह ने झूठे षड्यंत्र और छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए इसकी शिकायत दर्ज कराई है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में शिक्षक वर्ग-3 के पेपर का स्क्रीनशॉट वायरल होने का मामले ने टूक पकड़ ली है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के OSD लक्ष्मण सिंह मरकाम की शिकायत पर कांग्रेस नेता के के मिश्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज हुई है। पुलिस ने केके मिश्रा और अन्य के खिलाफ अनुसूचित जनजाति निवारण अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है।

दरअसल कांग्रेस नेता केके मिश्रा और आनंद राय ने लक्ष्मण सिंह मरकाम पर आरोप लगाए थे कि लक्ष्मण के मोबाइल से ही शिक्षा वर्ग 3 के पेपर का स्क्रीनशॉट वायरल हुआ है। केके मिश्रा ने कहा था कि जब परीक्षा ऑनलाइन हो रही है मोबाइल फोन पूरी तरह वर्जित है तो मुख्यमंत्री के ओएसडी लक्ष्मण सिंह के मोबाइल पर प्रश्न पत्र कैसे पहुंचा?

इसे भी पढ़ें:रेवांचल और भोपाल एक्सप्रेस में मिलेगा बेडरोल, कोरोना काल मे बंद थी ये सुविधा 

कांग्रेस नेता केके मिश्रा के आरोप पर मुख्यमंत्री के OSD लक्ष्मण सिंह ने झूठे षड्यंत्र और छवि धूमिल करने का आरोप लगाते हुए इसकी शिकायत दर्ज कराई है। जिसके बाद पुलिस ने केके मिश्रा और अन्य के खिलाफ अनुसूचित जनजाति निवारण अधिनियम की धाराओं समेत (419,469,470,500,504,120 B) में प्रकरण दर्ज किया है।

आपको बता दें कि एफआईआर दर्ज होने के बाद केके मिश्रा ने ट्वीट कर सरकार पर निशाना साधा है  उन्होंने लिखा है कि ‘धन्यवाद सरकार, अन्य मामलों में मुझे डरा/खरीद नहीं पाए तो अब एट्रोसिटी एक्ट का दुरुपयोग, FIR ! मुझे खुशी होती इसके पहले शिक्षक भर्ती वर्ग-3 परीक्षा धांधली को लेकर दोषियों के खिलाफ FIR होती? सच व भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने से न तब डरा था न अब डरूंगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।