पेट्रोल-डीजल पर केंद्र को भी कम करना चाहिए टैक्स, अजीत पवार बोले- CNG से राज्य को हुआ 1000 करोड़ रुपए का नुकसान

पेट्रोल-डीजल पर केंद्र को भी कम करना चाहिए टैक्स, अजीत पवार बोले- CNG से राज्य को हुआ 1000 करोड़ रुपए का नुकसान
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि केंद्र की ओर से जीएसटी की बड़ी रकम अभी आनी बाकी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कल पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कम करने की अपील की, हमने इस साल बजट में कोई टैक्स नहीं बढ़ाया। हमने सीएनजी पर टैक्स कम किया, जिससे राज्य को 1000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

मुंबई। पेट्रोल-डीजल की बढ़ी हुई कीमतों की वजह से आम आदमी परेशान हैं। ऐसे में महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार का बयान सामने आया है। जिसमें उन्होंने साफ किया है कि पेट्रोल-डीजल पर पहले केंद्र और फिर राज्यों द्वारा टैक्स लगाया जाता है। ऐसे में केंद्र को भी टैक्स को कम करना चाहिए। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को राज्यों के साथ हुई बैठक में पेट्रोल-डीजल से टैक्स को कम करने अपील की थी। 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री का संघवाद सहकारी नहीं, बल्कि प्रतिरोधी है, राहुल गांधी का नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला  

बजट में नहीं बढ़ाया कोई टैक्स

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने कहा कि केंद्र की ओर से जीएसटी की बड़ी रकम अभी आनी बाकी है। प्रधानमंत्री मोदी ने कल पेट्रोल-डीजल पर टैक्स कम करने की अपील की, हमने इस साल बजट में कोई टैक्स नहीं बढ़ाया। हमने सीएनजी पर टैक्स कम किया, जिससे राज्य को 1000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

उन्होंने कहा कि हम आज कैबिनेट में पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर चर्चा कर सकते हैं। कल प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठक में क्या हुआ यह तो मुख्यमंत्री ही बताएंगे। देश में सभी को यह स्वीकार करना होगा कि तेल पर पहले केंद्र और फिर राज्यों द्वारा टैक्स लगाया जाता है, इसलिए केंद्र को भी टैक्स कम करना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल सरकार ने ईंधन सब्सिडी पर तीन साल में 1,500 करोड़ रुपये खर्च किए : ममता बनर्जी 

इससे पहले शिवसेना सांसद संजय राउत ने प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि मुख्यमंत्रियों को बताया गया था कि प्रधानमंत्री मोदी कोविड पर बैठक करेंगे। पेट्रोल-डीजल को लेकर प्रधानमंत्री मोदी ने गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों पर निशाना साधा, यह सही नहीं है। प्रधानमंत्री मोदी से ऐसा करने की उम्मीद नहीं थी लेकिन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और ममता बनर्जी ने जवाब दिया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।