लंपी स्किन रोग को राष्ट्रीय आपदा करे केंद्र सरकार, अशोक गहलोत बोले- राजस्थान को वैक्सीनेशन में मिले प्राथमिकता

Ashok Gehlot
creative common
अभिनय आकाश । Sep 16, 2022 7:50PM
शोक गहलोत ने कहा कि लंपी रोग के लिए टीका नहीं है, दवाइयां नहीं हैं। हम लगातार बैठक कर रहे हैं। केंद्र सरकार से हम अपील करते हैं कि इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दें। प्रधानमंत्री का बयान मैंने सुना है कि इसकी वैक्सीन बन गई है, हम अपील करते हैं राजस्थान को ये प्राथमिकता पर मिलना चाहिए।

भारत के पश्चिमी राज्यों में लंपी वायरस का प्रकोप कहर ढा रहा है। पंजाब, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र में लंपी वायरस की वजह से हजारों गोवंश अपनी जान गंवा चुके हैं। राजस्थान में लंपी वायरस ने विकराल पूर ले लिया है। प्रदेश में रोज लंपी वायरस से हजारों गोवंश की मौत हो रही है। वहीं अब पूरे मामले में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का बयान सामने आया है। अशोक गहलोत ने कहा कि लंपी रोग के लिए टीका नहीं है, दवाइयां नहीं हैं। हम लगातार बैठक कर रहे हैं। केंद्र सरकार से हम अपील करते हैं कि इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित कर दें। प्रधानमंत्री का बयान मैंने सुना है कि इसकी वैक्सीन बन गई है, हम अपील करते हैं राजस्थान को ये प्राथमिकता पर मिलना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: गहलोत का कहना है कि राजस्थान में नई खेल संस्कृति का निर्माण हो रहा है

भीलवाड़ा में पत्रकारों से बात करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जोधपुर में केंद्रीय गृह मंत्री ग़लत बोले हैं। उन्होंने कहा कि कर्ज़ा माफ नहीं किया। राजस्थान में 22 लाख लोगों का कर्ज़ा माफ हुआ है। वसुंधरा जी के समय के 6000 करोड़ रुपए हमने चुकाए हैं। ये फिर भी लोगों को गुमराह कर रहे हैं। बता दें कि जोधपुर में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गहलोत सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि गहलोत ध्यान से सुनिएगा, आपके गांव में आकर बोल रहा हूं कि 2018 में मनमाने वादे किए थे, अपने वादों का हिसाब दो। दस दिन के अंदर किसानों का ऋण माफ करने का क्या हुआ? वसुंधरा गई तो बेरोजगारी की दर 5.4 प्रतिशत थी, गहलोत के राज में 32 प्रतिशत हो गई।

अन्य न्यूज़