चंबल एक्सप्रेस-वे का नाम हुआ चंबल प्रोग्रेस-वे

चंबल एक्सप्रेस-वे का नाम हुआ चंबल प्रोग्रेस-वे

योजना के अन्तर्गत मध्य प्रदेश-राजस्थान सीमा से मुरैना होते हुए भिण्ड जिले तक 309 किलोमीटर की फोरलेन ग्रीन फील्ड सड़क के निर्माण को अनुमोदन प्रदान किया गया। परियोजना के लिए राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क भूमि उपलब्ध करायी जाएगी।

भोपाल। मध्य प्रदेश में देश की पहली बार वर्चुअल कैबिनेट बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी मंत्रि-परिषद ने 'चंबल एक्सप्रेस-वे' का नाम बदलकर 'चंबल प्रोग्रेस-वे' करने निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में देश की पहली वर्चुअल कैबिनेट की बैठक में वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में मंत्रियों ने विभिन्न स्थानों से हिस्सा लिया।

इसे भी पढ़ें: मंत्री तुलसी सिलावट ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को बताया मुख्यमंत्री, बोले 15 दिन बात करेगें भूमि पूजन

जिसमें मंत्रि-परिषद ने 'चंबल एक्सप्रेस-वे' का नाम बदलकर 'चंबल प्रोग्रेस-वे' करने निर्णय लिया लेते हुए भारतमाला परियोजना के अन्तर्गत चंबल प्रोग्रेस-वे के निर्माण की स्वीकृति दी। योजना के अन्तर्गत मध्य प्रदेश-राजस्थान सीमा से मुरैना होते हुए भिण्ड जिले तक 309 किलोमीटर की फोरलेन ग्रीन फील्ड सड़क के निर्माण को अनुमोदन प्रदान किया गया। परियोजना के लिए राज्य सरकार द्वारा नि:शुल्क भूमि उपलब्ध करायी जाएगी। अर्जित की जाने वाली निजी भूमि को यथासंभव शासकीय भूमि से अदला-बदली के माध्यम से किया जायेगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...