वायुसेना की आवश्यकता में समय-समय पर बदलाव होते रहते हैं: सीतारमण

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2019   10:55
वायुसेना की आवश्यकता में समय-समय पर बदलाव होते रहते हैं: सीतारमण

उन्होंने कहा, ‘‘अब आपके पास यूएवी (मानवरहित हवाई यान या ड्रोन) हैं, इसलिए युद्ध की स्थिति में क्या हमें दुश्मन की सीमाओं के अंदर लड़ाकू विमान में प्रशिक्षित पायलट को भेजना जरूरी है? इसलिए समय-समय पर आवश्यकताएं बदलती रहती हैं।’’

अहमदाबाद। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि वायुसेना को जितने लड़ाकू जेट विमानों की आवश्यकता होती है उनकी संख्या में समय-समय पर बदलाव होते रहते हैं। 2001 में हालात तब अलग थे जब भारत ने 126 लड़ाकू विमानों को खरीदने का फैसला किया था। राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर कांग्रेस सवाल उठा रही है। कांग्रेस ने यह सवाल भी उठाया है कि नरेंद्र मोदी सरकार ने 126 लड़ाकू जेट विमान खरीद की मूल योजना के बजाय केवल 36 विमान खरीदने का फैसला क्यों किया।

सीतारमण यहां ‘भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा और राफेल सौदे के महत्व’ विषय पर संबोधन के दौरान सवालों का जवाब दे रही थीं। वायु सेना के लिये आवश्यक लड़ाकू विमानों की संख्या के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘2001 में जब 126 लड़ाकू विमानों की खरीद का फैसला किया गया तब वायुसेना की मांग अधिक थी। अब 20 साल बाद हालात बदल गये हैं।’’ 

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के शब्दों को कसौटी पर तौलने का वक्त आ गया: मोदी

उन्होंने कहा, ‘‘अब आपके पास यूएवी (मानवरहित हवाई यान या ड्रोन) हैं, इसलिए युद्ध की स्थिति में क्या हमें दुश्मन की सीमाओं के अंदर लड़ाकू विमान में प्रशिक्षित पायलट को भेजना जरूरी है? इसलिए समय-समय पर आवश्यकताएं बदलती रहती हैं।’’ 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...