आज अपना 56 वां स्थापना दिवस मना रहा चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय

आज अपना 56 वां स्थापना दिवस मना रहा चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय

परिसर में सौर ऊर्जा जल संरक्षण और पर्यावरण संरक्षण सहित सामाजिक जागरूकता एवं जिम्मेदारी में विश्वविद्यालय आगे रहा है। दो मंडल और 9 जिले सीसीएसयू से संबंध संसद एडिट राजकीय कॉलेज विद्यालय से जुड़े हैं। 980 सेल्फ फाइनेंसिंग व प्रोफेशनल कॉलेज संबंध है। यहाँ 70 से अधिक कोर्स चल रहे हैं।

चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय आज अपना 56 वां स्थापना दिवस मना रहा है। कागज और पेन के साथ एमफिल एवं रिसर्च के लिए शुरू हुए चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने 56 साल में बड़ा मुकाम हासिल किया है। इन 56 वर्षों में विद्यालय न केवल यूजी पीजी कोर्स में आगे बढ़ा बल्कि खुद को तकलीफ गुणवत्ता और विपक्ष में भी स्थापित किया है। नेट और रिसर्च में विश्वविद्यालय प्रदेश के राज्य विश्वविद्यालय से बहुत आगे है। 1000 कॉलेजों को लेकर आगे बढ़ रहे इस विश्वविद्यालय के कैंपस में 60 से अधिक कोर्स पढाये जाते है। परिसर में सौर ऊर्जा जल संरक्षण और पर्यावरण संरक्षण सहित सामाजिक जागरूकता एवं जिम्मेदारी में विश्वविद्यालय आगे रहा है। दो मंडल और 9 जिले सीसीएसयू से संबंध संसद एडिट राजकीय कॉलेज विद्यालय से जुड़े हैं।  980 सेल्फ फाइनेंसिंग व प्रोफेशनल कॉलेज संबंध है। यहाँ 70 से अधिक कोर्स चल रहे हैं।  

इसे भी पढ़ें: BJP, कांग्रेस, सपा-बसपा सब देखते रह जाएंगे, राजभर UP में 5 CM और 20 डिप्टी सीएम वाले फॉर्मूले के साथ सरकार बनाएंगे!

चौ.चरण सिंह विश्वविद्यालय को पहले मेरठ विश्व विद्यालय के नाम से जाना जाता था।  इसकी शुरुआत साकेत स्थित गोल मार्केट में कोठी नंबर 65 से हुई। इसकी स्थापना के वक्त  गोल मार्केट में एक कोठी किराए पर ली गई थी पहले कुलपति सीधे यूएसए से आए थे उनका नाम था आरके सिंह 1968- 69 में गोल मार्केट से विश्वविद्यालय नौचंदी ग्राउंड में पहुंचा यहां पर भी विश्वविद्यालय करीब 2 वर्ष तक किराए पर चला तत्पश्चात गढ़ रोड पर 1971 में इलाहाबाद बैंक के पास पार्क की जमीन पर विश्वविद्यालय का भूमि पूजन हुआ। वर्ष 1994 में मेरठ विवि का नाम पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के नाम पर हो गया।  चमचमाते चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय की शुरुआत ऐसे ही नहीं हुई थी। बेहद मुश्किल परिस्थितियों में विवि शुरू हुआ था। 56 साल पहले 222 एकड़ में फैले विवि की पहली कक्षा टेंट-बल्ली लगाकर चलाई गई थी। आज अपने सीसीएसयू की गिनती प्रदेश के टॉव विवि में होती है। डिग्री-मार्कशीट, प्रोविजनल सर्टिफिकेट, माईग्रेशन तक ऑनलाइन हो गए हैं। नेट-गेट में सबसे ज्यादा होनहार हर साल सीसीएसयू से निकल रहे हैं। पढ़ाई के साथ ही पर्यावरण संरक्षण में भी विवि अहम भूमिका निभा रहा है।

इसे भी पढ़ें: पश्चिम यूपी भाजपा की नयी सोशल मीडिया टीम की घोषणा, इन लोगों को मिली अहम जिम्मेदारी

56 वे स्थापना दिवस के उपलक्ष में गुरुवार को सुबह विधि विधान से हवन किया गया उसके पश्चात विश्वविद्यालय में 50 से अधिक आम नींद बरगद आदि के पौधे लगाए गए उसके पश्चात विश्वविद्यालय मैं लगी महापुरुषों की मूर्ति पर माल्यार्पण किया गया इस दौरान चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेशन नरेंद्र कुमार तनेजा ने कहा कि यह हमारे लिए गर्व की बात है कि हम चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय के हिस्सा है उनके बताए हुए रास्ते इमानदारी से अपने काम को पूरा करना यही हमारा काम है। पौधारोपण के दौरान मेरठ हापुर लोकसभा के सांसद राजेंद्र अग्रवाल भी मौजूद रहे इस दौरान कुलसचिव धीरेंद्र कुमार वर्मा, वित्त अधिकारी सुशील कुमार गुप्ता कुलानुशासक प्रोफेसर वीरपाल सिंह छात्र कल्याण अधिष्ठाता प्रोफेसर भूपेंद्र सिंह प्रोफेसर जितेंद्र ढाका प्रोफेसर एसएस गौरव प्रवक्ता मितेन्द्र कुमार गुप्ता इंजीनियर मनीष मिश्रा विकास त्यागी आदि मौजूद रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।