अभय चौटाला ने बड़े भाई अजय पर पहली बार किया करारा प्रहार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 15, 2018   10:43
अभय चौटाला ने बड़े भाई अजय पर पहली बार किया करारा प्रहार

अजय सिंह चौटाला पर तीक्ष्ण प्रहार करते हुए हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला ने उन पर और उनके दोनों बेटों पर इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) को कमजोर करने के लिए भाजपा और कांग्रेस के हाथों खेलने का आरोप लगाया।

चंडीगढ़। गहराते पारिवारिक कलह के बीच अपने बड़े भाई अजय सिंह चौटाला पर तीक्ष्ण प्रहार करते हुए हरियाणा विधानसभा में विपक्ष के नेता अभय सिंह चौटाला ने बुधवार को उन पर और उनके दोनों बेटों पर इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) को कमजोर करने के लिए भाजपा और कांग्रेस के हाथों खेलने का आरोप लगाया। अभय चौटाला (55) ने यहां संवाददाता सम्मेलन में तीक्ष्ण हमला किया और कथित पार्टी विरोधी गतिविधियों को लेकर अजय चौटाला को इनेलो की प्राथमिक सदस्यता से निकाले जाने की घोषणा की।

अजय चौटाला के दोनों बेटों- हिसार के सांसद दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला को पहले ही पार्टी से निकाल दिया गया था। अभय चौटाला ने पहली बार अपने बड़े भाई पर हमला किया है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं पूछना चाहता हूं- आपने हाल के सप्ताह में अजय चौटाला या उनके परिवार के किसी भी सदस्य को विरोधी कांग्रेस और भाजपा के खिलाफ एक भी शब्द कहते हुए सुना है ? उनका लक्ष्य भाजपा या कांग्रेस को सत्ता से हटाना नहीं है बल्कि वे उनके हाथों खेल रहे हैं जो इनेलो को कमजोर करना और उसे तोड़ना चाहते हैं।’’

संवाददाता सम्मेलन में अभय चौटाला के साथ पार्टी के नौ विधायक, दो सांसद, प्रदेश अध्यक्ष अशोक अरोड़ा और अन्य नेता मौजूद थे। हरियाणा के शिक्षक भर्ती घोटाले में अपने पिता और पूर्व मुख्यमंत्री ओपी चौटाला के साथ दस साल की कैद की सजा काट रहे अजय चौटाला (57) दो हफ्ते के पेरौल पर बाहर हैं। अपने बड़े भाई और भतीजों पर प्रहार करते हुए अभय चौटाला ने कहा, ‘‘मुझे मेरे भाई और उनके परिवार द्वारा खुलेआम दुर्योधन और जयचंद कहा गया है.... इससे मुझे बहुत पीड़ा हुई।’’ उन्होंने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री बनने की कभी आकांक्षा नहीं पाली और खुद को पिछली बेंचों तक सीमित रखा लेकिन जब ओम प्रकाश चौटाला और अजय सिंह चौटाला को सजा हुई तो उन्हें आगे आना पड़ा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।