• इंदौर के एमवाय अस्पताल से चोरी बच्चा आरोपी ने थाने में छोड़ा, पुलिस किया था इनाम घोषित

दिनेश शुक्ल Nov 21, 2020 11:45

पुलिस के अनुसार नवजात को सुबह करीब छह बजे के करीब कोई थाना परिसर में छोड़ गया है, क्योंकि जब थाने का मुंशी सुबह करीब 5.50 मिनट पर अपनी ड्यूटी पर आया तो उसे उस स्थान पर कोई नहीं दिखा था तथा सुबह छह बजे के बाद महिला सफाई के लिए आई।

इंदौर। मध्य प्रदेश में इंदौर के सबसे बड़े सरकारी अस्पातल महाराजा यशवंतराव अस्पताल (एमवायएच) से चोरी गया एक दिन का बच्चा मिल गया है। पुलिस तेजी से जांच पड़ताल कर बच्चे को तलाश करने का प्रयास कर रही थी। इस बीच आरोपितों ने बच्चे को संयोगितागंज थाना परिसर में छोड़ दिया था। शुक्रवार सुबह परिसर में महिला सफाईकर्मी को बच्चा मिला, जिसके बाद उसने पुलिस को सूचना दी। फिलहाल बच्चे को एमवाय अस्पताल में डॉक्टरों की देख रेख में रखा गया है। 

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के गुना जिले में किसानों को थमाए लाखों के बिजली बिल

दरअसल, पांच दिन पहले बच्चा चोरी होने की घटना के बाद से ही पुलिस ने मुस्तैदी से उसकी तलाश शुरू कर दी थी। पुलिस को कुछ सीसीटीवी फुटेज भी मिले थी, जिसके आधार पर बच्चा चोरी करने वाली महिला की तलाश की जा रही थी। पुलिस ने एक सफेद मेस्ट्रो गाड़ी के नंबर के बारे में जानकारी जुटा रही थी। इसी वाहन से आरोपित महिला को बच्चा ले जाते हुए देखा गया था। साथ ही पुलिस ने कथित महिला चोर पर दस हजार रुपये का इनाम भी घोषित कर दिया था। संभवत: इसी दबाव के चलते बच्चे को संयोगितागंज थाना परिसर में छोड़ दिया गया।

इसे भी पढ़ें: पुलिसकर्मियों ने युवक का फोड़ा सिर, मध्य प्रदेश मानव अधिकार आयोग ने मांगी रिपोर्ट

पुलिस के अनुसार नवजात को सुबह करीब छह बजे के करीब कोई थाना परिसर में छोड़ गया है, क्योंकि जब थाने का मुंशी सुबह करीब 5.50 मिनट पर अपनी ड्यूटी पर आया तो उसे उस स्थान पर कोई नहीं दिखा था तथा सुबह छह बजे के बाद महिला सफाई के लिए आई। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि मौका पाते ही नवजात को उस स्थान पर कोई रखकर चला गया। पुलिस आसपास के सीसीटीवी फुटेज के आधार पर इस घटनाक्रम का विस्तृत पता करने में लगी हुई है। पुलिस ने बच्चे को एमवाय अस्पताल में भर्ती करवाया है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में गर्भवती महिला ने टैक्सी में दिया बच्ची को जन्म

इंदौर के पंचम की फेल में रहने वाले लोकेश बियानी की पत्नी रानी ने बीते रविवार को सुबह एक बच्चे को जन्म दिया था। लोकेश की सास राजू बाई अस्पताल में ही थी। लोकेश दोपहर बाद अपने घर पर कुछ सामान लेने आया था। इसी दौरान उसका मासूम बच्चा चोरी हो गया। लोकेश के रिश्तेदार मयूर ने बताया कि नर्स के वेश में एक महिला उस वार्ड में दो बार आई थी, जहां रानी भर्ती थी। उस महिला ने वार्ड में मौजूद सभी बच्चों की जांच भी की। एक दो बच्चों को दवाई भी थी। इसके बाद रानी और राजू बाई को कहा कि उनके नवजात शिशु की धडक़नें कम है, इसकी तुरंत जांच करवाना पड़ेगी। यह झांसा देकर वह बच्चे को लेकर बाहर आई। बच्चे के साथ राजू बाई भी थी। महिला नीचे आई, इसके बाद राजू बाई से पर्ची बनवाने का कहा। राजू बाई पर्ची बनवाने लगी इसी दौरान महिला और लोकेश का मासूम बच्चा लेकर लापता हो गई।