• पार्टी संविधान के तहत हुआ चुनाव, चिराग पासवान अब लोजपा के अध्यक्ष नहीं: पशुपति पारस

लोजपा सांसद पशुपति पारस ने कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी के संविधान के तहत चिराग पासवान अब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं रहे, सदन के नेता नहीं रहे।

नयी दिल्ली। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) में सियासी घमासान जारी है। चाचा-भतीजे के बीच में पार्टी संविधान का मसला उठने लगा है। अब दिवंगत नेता रामविलास पासवान के भाई और लोजपा सांसद पशुपति पारस ने बताया कि चिराग पासवान अब पार्टी के अध्यक्ष नहीं रहे और न ही सदन के नेता हैं। उन्होंने यहां तक कहा कि पार्टी के संविधान के तहत कल चुनाव हुआ है और वह वैध है। 

इसे भी पढ़ें: चाचा-भतीजे के बीच जंग की घटनाओं से भरा पड़ा है भारतीय राजनीति का इतिहास 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक लोजपा सांसद पशुपति पारस ने कहा कि लोक जनशक्ति पार्टी के संविधान के तहत चिराग पासवान अब पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं रहे, सदन के नेता नहीं रहे। पार्टी के संविधान के तहत कल चुनाव हुआ, जो वैध है। चिराग पासवान को संविधान की जानकारी नहीं है।

इसे भी पढ़ें: चिराग का भाजपा से मोहभंग? कहा- जब हनुमान को राम से मदद मांगनी पड़े तो कैसे हनुमान और कैसे राम

उल्लेखनीय है कि पारस ने हाल ही में पार्टी में राजनीतिक तख्तापलट करते हुए अपने भतीजे चिराग पासवान को पार्टी अध्यक्ष पद से हटा दिया था। पारस गुट द्वारा लोकसभा में पार्टी के नेता और राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से चिराग पासवान को हटाने जाने के बाद लोजपा के कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए पूर्व सांसद सूरजभान सिंह ने पारस को पार्टी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्विरोध निर्वाचित किए जाने की घोषणा की थी और प्रमाण पत्र सौंपा था।