Bipin Rawat Helicopter Crash | हेलीकॉप्टर कई पेड़ों से टकराया, जलते हुए लोग नीचे गिर रहे थे, चश्मदीद ने बयां की आंखों देखी घटना

Bipin Rawat Helicopter Crash | हेलीकॉप्टर कई पेड़ों से टकराया, जलते हुए लोग नीचे गिर रहे थे, चश्मदीद ने बयां की आंखों देखी घटना

तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत को लेकर जा रहा भारतीय वायु सेना का Mi-17V5 हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हेलिकॉप्टर ने सुलूर एयरबेस से कोयंबटूर के वेलिंगटन के लिए उड़ान भरी थी लेकिन हेलीकॉप्टर रास्ते में ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

तमिलनाडु के कुन्नूर में बुधवार को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत को लेकर जा रहा भारतीय वायु सेना का Mi-17V5 हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हेलिकॉप्टर ने सुलूर एयरबेस से कोयंबटूर के वेलिंगटन के लिए उड़ान भरी थी लेकिन हेलीकॉप्टर रास्ते में ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया। शुरुआती खबरों के मुताबिक इस घटना में अभी तक 11 लोगों के शवों को रेस्क्यू टीम ने बरामद किया है। तीन लोगों गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, कुन्नूर की पहाड़ियों में हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने के दौरान उसमें 14 लोग सवार थे। बचाए गए तीनों को गंभीर चोटें आईं और उन्हें नीलगिरी जिले के वेलिंगटन छावनी में अस्पताल ले जाया गया।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने जयसिंहपुर विधानसभा क्षेत्र में 144 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं के शिलान्यास एवं लोकार्पण किए

बुधवार दोपहर तमिलनाडु के कुन्नूर में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत के साथ एक भारतीय वायु सेना का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। स्थानीय लोग सबसे पहले दुर्घटनास्थल पर सवार लोगों को बचाने के प्रयास में पहुंचे। इस घटना के एक चश्मदीद कृष्णास्वामी ने बताया, "मैंने पहली बार एक तेज आवाज सुनी। जब मैं यह देखने के लिए बाहर आया कि क्या हुआ था, तो मैंने देखा कि हेलीकॉप्टर एक पेड़ से टकरा गया था। एक बहुत बड़ा आग का गोला उठा था और फिर यह दूसरे पेड़ से टकरा गया। मैंने दो-तीन लोगों को हेलिकॉप्टर से उतरते देखा, वे पूरी तरह जल गए थे और हेलिकॉप्टर से गिर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी, शाह और सोनिया के बाद अब योगी और हेमंत सोरेन का बिहार में हुआ टीकाकरण

उन्होंने आगे कहा, "मैंने इलाके में रहने वाले लोगों को बुलाया और हमने मदद करने की कोशिश की। इसके बाद दमकल विभाग और अन्य आपातकालीन सेवाओं को सूचित किया गया।"

भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टर दुर्घटना स्थल के दृश्यों में बड़े पैमाने पर आग की लपटें और स्थानीय लोगों को तत्काल बचाव कार्यों में मदद करते हुए दिखाया गया है। स्थानीय सैन्य अधिकारियों सहित कई दल जल्द ही खोज और बचाव कार्यों के लिए घटनास्थल पर पहुंच गए। अब तक विमान में सवार चौदह लोगों में से ग्यारह की मौत की पुष्टि हो चुकी है। गंभीर रूप से झुलसे दो लोगों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी, रक्षा सहायक, सुरक्षा कमांडो और एक आईएएफ पायलट एमआई-सीरीज हेलिकॉप्टर में सवार थे, जब यह तमिलनाडु में कोयंबटूर और सुलूर के बीच दुर्घटनाग्रस्त हो गया, एएनआई समाचार एजेंसी ने बताया। सीडीएस बिपिन रावत सूत्रों के अनुसार, कोयंबटूर के पास सुलूर में भारतीय वायु सेना के अड्डे से वेलिंगटन में डिफेंस स्टाफ कॉलेज जा रहे थे। आठ अन्य लोगों के साथ, वह बुधवार को दिल्ली से सुलूर के लिए एक उड़ान में सवार हुए थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।