मुख्यमंत्री ने पांच दिव्यांग शोधार्थियों को राष्ट्रीय फेलोशिप प्राप्त करने पर बधाई दी

मुख्यमंत्री ने पांच दिव्यांग शोधार्थियों को राष्ट्रीय फेलोशिप प्राप्त करने पर बधाई दी

मुख्यमंत्री ने कहा की केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की प्रतिष्ठित राष्ट्रीय फेलोशिप प्राप्त करने वाले हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पांच दिव्यांग पीएचडी शोधार्थियों को हार्दिक बधाई। प्रतिभा ठाकुर (राजनीति विज्ञान), मुकेश कुमार (शिक्षा शास्त्र), राजपाल (इतिहास), संजय भैरव (योग) और हेम सिंह (वाणिज्य) ने मेरिट के आधार पर यह फेलोशिप हासिल कर अन्य युवाओं को प्रेरणा दी है।

शिमला ।   मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की प्रतिष्ठित राष्ट्रीय फेलोशिप प्राप्त करने वाले हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पांच दिव्यांग पीएचडी शोधार्थियों को बधाई दी है। 

 

उन्होंने कहा कि प्रतिभा ठाकुर (राजनीति विज्ञान), मुकेश कुमार (शिक्षा शास्त्र), राजपाल (इतिहास), संजय भैरव (योग) और हेम सिंह (वाणिज्य) ने मेरिट के आधार पर यह फेलोशिप हासिल कर अन्य युवाओं को प्रेरणा दी है। प्रदेश विश्वविद्यालय में बड़ी संख्या में दिव्यांग विद्यार्थियों का पढ़ना सामाजिक न्याय का संकेत है।  मुख्यमंत्री ने कहा की दिव्यांगता को कमजोरी नहीं बल्कि चुनौती मानकर आगे बढ़ रहे युवाओं को प्रदेश सरकार हर संभव सहायता प्रदान कर रही है।

इसे भी पढ़ें: शहरी विकास मंत्री ने हरदीप सिंह पुरी से भेंट की

मुख्यमंत्री ने कहा की केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की प्रतिष्ठित राष्ट्रीय फेलोशिप प्राप्त करने वाले हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के पांच दिव्यांग पीएचडी शोधार्थियों को हार्दिक बधाई। प्रतिभा ठाकुर (राजनीति विज्ञान), मुकेश कुमार (शिक्षा शास्त्र), राजपाल (इतिहास), संजय भैरव (योग) और हेम सिंह (वाणिज्य) ने मेरिट के आधार पर यह फेलोशिप हासिल कर अन्य युवाओं को प्रेरणा दी है।

 

इसे भी पढ़ें: शक्तिपीठों में नवरात्रों में सीसीटीवी के माध्यम से होगी निगरानी: डीसी

 

प्रदेश विश्वविद्यालय में बड़ी संख्या में दिव्यांग विद्यार्थियों का पढ़ना सामाजिक न्याय का संकेत है।  दिव्यांगता को कमजोरी नहीं बल्कि चुनौती मानकर आगे बढ़ रहे युवाओं को हमारी सरकार हरसंभव सहायता प्रदान कर रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।