CM शिवराज ने राज्यपाल को 4 दिसंबर को आदिवासी आदर्श टंट्या भील की शहादत के अवसर पर किया आमंत्रित

CM शिवराज ने राज्यपाल को 4 दिसंबर को आदिवासी आदर्श टंट्या भील की शहादत के अवसर पर किया आमंत्रित

2011 की जनगणना के अनुसार, मध्य प्रदेश में आदिवासियों की संख्या 1.53 करोड़ है जो राज्य की 7.26 करोड़ आबादी का 21.08 प्रतिशत है 230 सदस्यीय विधानसभा में 47 सीटें अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को राज्यपाल मंगूभाई पटेल से मुलाकात की। उन्हें 4 दिसंबर को इंदौर के पातालपानी में स्वतंत्रता सेनानी और आदिवासी आइकन टंट्या भील की शहादत के अवसर पर एक समारोह के लिए आमंत्रित किया।

इसे भी पढ़ें:करणी सेना ने बीजेपी कार्यालय के बाहर किया हंगामा, मंत्री को दिखाया काला कपड़ा 

अधिकारियों ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और राज्यपाल मंगभाई पटेल के बीच बैठक राजभवन में लगभग तीस मिनट तक चली। दरअसल हाल ही में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की थी कि पातालपानी रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर टंट्या भील कर दिया जाएगा।

वहीं राजनीतिक पर्यवेक्षकों द्वारा इस कदम को 2023 के विधानसभा चुनावों के लिए आदिवासी समुदाय को पार्टी में वापस लाने की भाजपा की योजना के रूप में देखा जा रहा है।

इसे भी पढ़ें:सीहोर में साहूकारों द्वारा परेशान किए जाने के बाद व्यक्ति ने की आत्महत्या 

आपको बता दें कि 2011 की जनगणना के अनुसार, मध्य प्रदेश में आदिवासियों की संख्या 1.53 करोड़ है जो राज्य की 7.26 करोड़ आबादी का 21.08 प्रतिशत है 230 सदस्यीय विधानसभा में 47 सीटें अनुसूचित जनजातियों के लिए आरक्षित हैं।

वहीं कांग्रेस ने 2018 के राज्य चुनावों में 47 में से 31 सीटें जीती थीं। एक ऐसी स्थिति जिसे सत्तारूढ़ बीजेपी 2023 में ठीक करना चाहती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।