राम नगरी में 3504 श्रमिक बेटियों का कन्यादान करेंगे सीएम योगी

राम नगरी में 3504 श्रमिक बेटियों का कन्यादान करेंगे सीएम योगी

अयोध्या के जीआईसी के मैदान में पूरे आयोजन को भव्यता के साथ किया जाएगा। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ सभी वर वधुओं को उपहार देंगे। तो वही श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या व पांचों मंडल के विधायक व सांसद भी मौजूद होंगे।

अयोध्या। राम नगरी अयोध्या में पहली बार श्रम विभाग के द्वारा मंडलीय सामूहिक विवाह का आयोजन किया जा रहा है। जिसमे पांचो जनपदों में से जोड़े शामिल होंगे। वहीं अयोध्या जनपद से 1472, बाराबंकी से 304, सुल्तानपुर से 806, अंबेडकरनगर से 315 व अमेठी से 611 जोड़ों ने अभी तक विभाग में अपना पंजीकरण करवाया है। तो वहीं मुस्लिम समुदाय से 126 मुस्लिम पुत्रियों के विवाह के लिए पंजीकरण किया गया है। जिसमे कुल 3504 श्रमिकों  के पुत्रियों की शादी कराई जाएगी। अयोध्या के जीआईसी के मैदान में पूरे आयोजन को भव्यता के साथ किया जाएगा। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ सभी वर वधुओं को उपहार देंगे। तो वही श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या व पांचों मंडल के विधायक व सांसद भी मौजूद होंगे।

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर के निर्माण के दूसरे चरण में राफ्ट निर्माण में फिर हुआ बदलाव

श्रम विभाग के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्या ने जानकारी देते हुए बताया कि 26 नवंबर को अयोध्या के जीआईसी कॉलेज के मैदान में विशाल और भव्य श्रम विभाग के द्वारा श्रमिक पुत्री सामूहिक विवाह का आयोजन किया जा रहा है। जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ स्वयं इस कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं। श्रमिक पुत्रियों के वैवाहिक कार्यक्रम में वर-वधू को आशीर्वाद देंगे और साथ ही साथ जो हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जो संकल्प है। सबका साथ सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास उसके तहत श्रमिक को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं से अच्छादित होकर विकास की मुख्यधारा में शामिल किया जाएगा और श्रमिक के पुत्रों की भी शादी बड़े शानदार और भव्य तरीके से किया जाए। जिसके लिए अब तक 3504 जोड़ें श्रम विभाग के द्वारा पंजीकृत किया जा चुका है। आयोजन होने तक यह संख्या और भी बढ़ सकती है। और बड़े ही ऐतिहासिक उत्सव की तरह होगा। वहीं बताया कि हमें खुशी है कि अब तक श्रम विभाग के तत्वाधान में एक लाख से ज्यादा श्रमिक बेटियों की शादी करा चुके हैं उसी कड़ी में एक ऐतिहासिक पहल अयोध्या जनपद में होने जा रहा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।