शीतलहर की चपेट में कई राज्य, हिसार में पारा शून्य से 1.2 डिग्री नीचे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 31, 2020   14:10
शीतलहर की चपेट में कई राज्य, हिसार में पारा शून्य से 1.2 डिग्री नीचे

हरियाणा, पंजाब की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में भी इस मौसम की सबसे सर्द रात दर्ज की गई, जहां तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 2.7 डिग्री सेल्सियस रहा। पंजाब में भी कई स्थानों पर शीत लहर जारी रही, जहां बठिंडा में तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

चंडीगढ़। हरियाणा और पंजाब के कई हिस्सों में कड़ाके की सर्दी गजब ढा रही है। पिछले कुछ दिनों से जारी शीत लहर बृहस्पतिवार को और तेज हो गई और हिसार में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 1.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने बताया कि दोनों राज्यों में सुबह-सुबह अधिकतर स्थानों पर घना कोहरा छाने से दृश्यता कम हो गई। न्यूनतम तापमान कई स्थानों पर सामान्य से काफी कम दर्ज किया गया, तो कहीं स्थानों में इस मौसम की सबसे सर्द रात रही। हरियाणा के हिसार में तापमान सामान्य से आठ डिग्री कम रहा, जहां इस मौसम की सबसे सर्द रात दर्ज की गई। राज्य में नारनौल में भी मौसम की सबसे सर्द रात रही और तापमान शून्य से नीचे 0.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

इसे भी पढ़ें: किसान आंदोलन के बीच हरियाणा में भाजपा-जजपा गठबंधन को बड़ा झटका, निकाय चुनाव में मिली करारी शिकस्त

उन्होंने बताया कि सिरसा, अंबाला, करनाल, रोहतक और भिवानी में न्यूनतम तापमान क्रमश: 1.5, 3.6, 4.1, 4.2 और 4.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में भी इस मौसम की सबसे सर्द रात दर्ज की गई, जहां तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 2.7 डिग्री सेल्सियस रहा। पंजाब में भी कई स्थानों पर शीत लहर जारी रही, जहां बठिंडा में तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अमृतसर और फरीदकोट में तापमान क्रमश: 1.6 डिग्री सेल्सियस और 1.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, पठानकोट, हलवारा, आदमपुर, लुधियाना और पटियाला में न्यूनतम तापमान क्रमश: 2.2, 3.1, 4.8, 4.1 और 4.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...