अमरावती में हालात अब स्थिर हैं, हिंसा की ज्ञटना की जांच के आदेश दिये गये: महाराष्ट्र के गृहमंत्री

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 16, 2021   08:55
अमरावती में हालात अब स्थिर हैं, हिंसा की ज्ञटना की जांच के आदेश दिये गये: महाराष्ट्र के गृहमंत्री
प्रतिरूप फोटो

महाराष्ट्र के गृहमंत्री वल्से पाटिल ने नागपुर में कहा, ‘‘ अमरावती में हालात स्थिर और नियंत्रण में हैं। महाराष्ट्र के सभी जिलों एवं तालुकों में स्थिति नियंत्रण में रखने के लिए कदम उठाये जा रहे हैं। ’’

नागपुर,| महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वल्से पाटिल ने सोमवार को कहा कि पिछले सप्ताह हुई हिंसा की घटनाओं के बाद कर्फ्यू लगाये जाने के बाद अमरावती में हालात अब स्थिर है। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाये जा रहे हैं कि राज्य के सभी जिलों में संपूर्ण स्थिति नियंत्रण में बनी रहे।

दिन में उससे पहले पाटिल पूर्वी महाराष्ट्र के गडचिरोली जिले के एक अस्पताल में गये थे, जहां शनिवार को नक्सलियों साथ हुई मुठभेड़ में घायल पुलिसकर्मियों का उपचार चल रहा है।

इसे भी पढ़ें: पद्म विभूषण से सम्मानित इतिहासकार बाबासाहेब पुरंदरे का निधन

गृह मंत्री ने नक्सल विरोधी अभियान में शामिल सी-60 के कमांडो, पुलिसकर्मियों एवं अधिकारियों को बधाई दी।

उन्होंने गडचिरोली में एक विशेष अस्पताल खोलने के प्रस्ताव का भी जिक्र किया। इस अभियान में कुल 26 नक्सली मारे गये।

पाटिल ने नागपुर में कहा, ‘‘ अमरावती में हालात स्थिर और नियंत्रण में हैं। महाराष्ट्र के सभी जिलों एवं तालुकों में स्थिति नियंत्रण में रखने के लिए कदम उठाये जा रहे हैं। ’’

उन्होंने कहा कि (अमरावती समेत महाराष्ट्र के विभिन्न स्थानों पर) रैलियां निकाले जाने के बाद हुई हिंसा की जांच के आदेश दिये गये हैं। शुक्रवार को महाराष्ट्र के विभिन्न शहरों में कुछ मुस्लिम संगठनों द्वारा रैलियों निकाले जाने के दौरान पथराव की घटनाएं हुई थीं।

इसे भी पढ़ें: करीब 100 नक्सलियों ने सी-60 कमांडो और पुलिस पर अंधाधुंध गोलीबारी की थी: पुलिस

इन संगठनों ने त्रिपुरा में हुई कथित सांप्रदायिक हिंसा की घटना के विरोध में रैलियां निकाली थीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।