नागालैंड गोलीबारी पर अमित शाह के बयान के बाद बोले चौधरी, पीड़ित परिवारों के लिए आर्थिक मुआवजे का ऐलान हो

नागालैंड गोलीबारी पर अमित शाह के बयान के बाद बोले चौधरी, पीड़ित परिवारों के लिए आर्थिक मुआवजे का ऐलान हो

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने बताया कि पीड़ित परिवारों के लिए आर्थिक मुआवज़े का ऐलान हो। 2015 में PM ने नागालैंड के साथ शांति समझौते पर करार किया था, तब प्रधानमंत्री ने कहा था कि नागालैंड में अब शांति बहाल होगी। कांग्रेस नेता ने लोकसभा में नागालैंड में गोलीबारी का मुद्दा उठाया।

नयी दिल्ली। नागालैंड गोलीबारी मामले को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधा। इसी के साथ ही कांग्रेस ने पीड़ित परिवारों के लिए आर्थिक मुआवज़े की मांग की। दरअसल, नागालैंड में हुई गोलीबारी में 14 लोगों की मौत हो गई। जिसके बाद सड़क से लेकर संसद तक हंगामा मचा हुआ है। इसी बीच केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को सदन में कहा कि सभी एजेंसियों से यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि भविष्य में विद्रोहियों के खिलाफ अभियान चलाते समय इस तरह की किसी घटना की पुनरावृत्ति नहीं हो।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने बताया कि पीड़ित परिवारों के लिए आर्थिक मुआवज़े का ऐलान हो। 2015 में PM ने नागालैंड के साथ शांति समझौते पर करार किया था, तब प्रधानमंत्री ने कहा था कि नागालैंड में अब शांति बहाल होगी। कांग्रेस नेता ने लोकसभा में नागालैंड में गोलीबारी का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि नागालैंड में जो घटना घटी है, वह दुखद और शर्मनाक है। कांग्रेस नेता ने पूछा कि नागालैंड में शांति बहाली को लेकर दावे किए गए थे, उनका क्या हुआ ?

जांच के लिए गठित हुई एसआईटी

गृह मंत्री ने बताया कि स्थानीय प्रशासन और पुलिस ने स्थिति को सामान्य करने की कोशिश की है। अभी स्थिति तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में बनी हुई है। पुलिस महानिदेशक नागालैंड और आयुक्त नागालैंड ने 5 दिसंबर को घटनास्थल का दौरा किया है। इसके साथ ही पुलिस स्टेशन में प्राथिमिकी दर्ज की गई है और मामले की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए इसे राज्य अपराध पुलिस स्टेशन को जांच के लिए सौंप दिया गया है। इस संदर्भ में एसआईटी का गठन किया गया है। जिसे एक माह के भीतर जांच को पूरी करने का निर्देश दिया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...