गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनाव में हारने जा रही है कांग्रेस, PK बोले- फेल रहा उदयपुर चिंतन शिविर

PK
ANI
अभिनय आकाश । May 20, 2022 1:22PM
प्रशांत किशोर ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा है कि उदयपुर में हुए चिंतन शिविर में यथास्थिति बनाए रखने और कांग्रेस नेतृत्व को कुछ और समय देने के अलावा कुछ भी हासिल नहीं हुआ है। इसके साथ ही पीके नेगुजरात और हिमाचल प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की करारी हार की भविष्यवाणी भी कर दी है।

भारत की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी यानी कांग्रेस ऐसा ही चिंतन के लिए एक शिविर का आोजन राजस्थान के उदयपुर में किया। हाल के विधानसभा चुनावों में पार्टी उन सभी पांच राज्यों में हार गई, जहां चुनाव हुए थे और पंजाब में अपनी सत्ता आम आदमी पार्टी के हाथों गंवा बैठी है। ऐसे में सोनिया गांधी की तरफ से पार्ची कार्यकर्ताओँ से कर्ज चुकाने की बात कही जा रही है। कांग्रेस के चिंतन शिविर को लेकर चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने तंज कसा है। उन्होंने चिंतन शिविर, आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन को लेकर अपनी राय रखी। 

इसे भी पढ़ें: रोड रेज मामला : नवजोत सिंह सिद्धू ने आत्मसमर्पण के लिए कोर्ट से समय मांगा

प्रशांत किशोर ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा है कि उदयपुर में हुए चिंतन शिविर में यथास्थिति बनाए रखने और कांग्रेस नेतृत्व को कुछ और समय देने के अलावा कुछ भी हासिल नहीं हुआ है। इसके साथ ही पीके नेगुजरात और हिमाचल प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की करारी हार की भविष्यवाणी भी कर दी है। प्रशांत किशोर ने ट्वीटर पर लिखा कि उनसे बार-बार यही सवाल किया जा रहा था कि कांग्रेस के चिंतन शिविर पर उनकी क्या राय है। उन्होंने लिखा कि मेरे ख्याल से ये चिंतन शिविर कुछ भी सार्थक हासिल करने में विफल रहा है। ये केवल यथास्थिति को लंबा खींचने और कांग्रेस नेतृत्व को समय देने के अलावा कुछ और नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: क्या भाजपा में शामिल होंगे हार्दिक पटेल? पूछे गए सवाल पर दिया यह जवाब

पीके ने तो यहां तक कह दिया है कि कांग्रेस ने चिंतन शिविर में कुछ भी सार्थक हासिल करने में विफल रहा है। गुजरात और हिमाचल प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भी पीके ने टिप्पणी की है। प्रशांत किशोर ने आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार होने की भविष्यवाणी की है।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़