नए भूमि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस ने जम्मू में किया विरोध प्रदर्शन

Congress
कांग्रेस नेता एवं पूर्व मंत्री रमन भल्ला ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि और देश के प्रथम गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर यहां इंदिरा चौक पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करने के बादविरोध-प्रदर्शन का नेतृत्व किया।

जम्मू। कांग्रेस की जम्मू कश्मीर इकाई ने केंद्र शासित प्रदेश के लिए अधिसूचित किये गए नए भूमि कानूनों के खिलाफ शनिवार को जम्मू में विरोध प्रदर्शन किया। पार्टी ने कहा कि केंद्र सरकार को इनकी जमीन और नौकरियां छीन कर’ शांतिप्रिय नागरिकों के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए। कांग्रेस नेता एवं पूर्व मंत्री रमन भल्ला ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि और देश के प्रथम गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर यहां इंदिरा चौक पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करने के बादविरोध-प्रदर्शन का नेतृत्व किया। नये भूमि कानूनों के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सचिवालय तक मार्च करने की कोशिश की, लेकिन पुलिस कर्मियों ने उन्हें रोक दिया। भल्ला ने आरोप लगाया, “हाल ही में संशोधित किए गए जम्मू-कश्मीर भूमि कानून जनविरोधी, गरीब विरोधी और जम्मू विरोधी हैं।” 

इसे भी पढ़ें: कश्मीर में नए भूमि कानूनों के खिलाफ हुर्रियत ने किया बंद का आह्वान

संशोधनों को तत्काल रद्द करने की मांग करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि ये नए कानून भेदभावपूर्ण हैं। उन्होंने कहा, ‘‘सरकार को जम्मू-कश्मीर के शांतिप्रिय नागरिकों के धैर्य की परीक्षा उनकी जमीन और नौकरियां छीनकर नहीं लेनी चाहिए।’’ भल्ला ने केंद्र के नये कृषि कानूनों को लेकर भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि किसानों के समग्र आर्थिक हितों के खिलाफ इन कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने कमर कस ली है। इंदिरा गांधी को श्रद्धांजलि देते हुए कांग्रेस नेताओं ने कहा कि गरीबों, दलितों के उत्थान और राष्ट्र के प्रति दृढ़ प्रतिबद्धता के लिए उन्हें हमेशा ही जननेता के रुप में याद किया जाएगा। वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि पार्टी ने इंदिरा की पुण्यतिथि को ‘किसान अधिकार दिवस’ के रूप में मनाया और जम्मू-कश्मीर के सभी जिला मुख्यालयों पर सत्याग्रह का आयोजन किया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़