कांग्रेस का सवाल, भाजपा में कितने अध्यक्ष संघ परिवार से बाहर के बने हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 18, 2018   10:45
कांग्रेस का सवाल, भाजपा में कितने अध्यक्ष संघ परिवार से बाहर के बने हैं

अब मैं भाजपा से प्रश्न करता हूं कि भाजपा 1980 में बनी, तब से जितने भी भाजपा के अध्यक्ष रहे, उनमें से संघ परिवार के बाहर के कितने हैं। एक नाम बता दीजिये, दो नाम बता दीजिये। कल तक बता दीजिये, परसों तक बता दीजिये।’’

भोपाल। कांग्रेस ने आज भाजपा से सवाल किया कि अब तक भाजपा के कितने अध्यक्ष संघ परिवार से बाहर के बने हैं। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने आज यहां एक सवाल के उत्तर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘कांग्रेस के अब तक 60 अध्यक्ष हुए हैं। इनमें से केवल छह अध्यक्ष नेहरू, गांधी परिवार से रहे हैं। अब मैं भाजपा से प्रश्न करता हूं कि भाजपा 1980 में बनी, तब से जितने भी भाजपा के अध्यक्ष रहे, उनमें से संघ परिवार के बाहर के कितने हैं। एक नाम बता दीजिये, दो नाम बता दीजिये। कल तक बता दीजिये, परसों तक बता दीजिये।’’ 

खेड़ा से सवाल किया गया था कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को एक रैली में प्रश्न किया था कि नेहरू, गांधी परिवार से बाहर का कोई कांग्रेस में अध्यक्ष हो सकता है क्या। उन्होंने कहा, ‘‘इनको नेहरू, गांधी परिवार से परेशानी होती है। इनकी नींद हराम यही पार्टी करती है। राहुल गांधी का कोई मायने नहीं रखना, यह कहने के लिए पूरी कैबिनेट सुबह से शाम तक लगी रहती है। मायने नहीं रखता तो अपना काम करिये। राहुल गांधी मायने नहीं रखता, यह कहने के लिये इतनी मेहतन क्यों करनी पड़ती है, सुबह से शाम तक।’’ 

कांग्रेस के देश में लुप्त होने और कांग्रेस अध्यक्ष को इसे देखने के लिये सूक्ष्मदर्शी के उपयोग की सलाह वाले अमित शाह के बयान के बारे में पूछे गये प्रश्न पर कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि अगर लुप्त हो रही है तो इनको कांग्रेस के विषय में बात ही नहीं करनी चाहिए, फिर क्यों सुबह से शाम तक कांग्रेस, कांग्रेस, राहुल, राहुल करते रहते हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।