स्मृति ईरानी को घेरने के लिए कांग्रेस ने संघ प्रमुख के बयान को लेकर चलाई झूठ की दुकान? बीवी श्रीनिवास के शेयर किए गए वीडियो का Reality Check

RSS chief
अभिनय आकाश । Jul 29, 2022 7:21PM
मध्‍यप्रदेश के इंदौर में करीब 15 जिलो के करीब डेढ़ लाख कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए आरएसएस मुखिया मोहन भागवत ने जड़ता के सिद्धांत से पति-पत्‍‌नी के संबंध से जोड़ते हुए ये बयान दिया था।

विपक्ष की सबसे बड़ी नेता सोनिया गांधी और मोदी सरकार की प्रखर मंत्री स्मृति ईरानी के बीच झगड़ा हुआ। ये झगड़ा बीच सदन में हुआ। सत्ता विपक्ष और विपक्ष दोनों के सांसद इसके साक्षी भी बने। जिसके बाद से कांग्रेस और बीजेपी एक दूसरे को लगातार कटघरे में खड़ा कर रही है। बीजेपी ने जहां स्मृति ईरानी को धमकाने का आरोप लगाया तो कांग्रेस ने दावा किया कि सोनिया गांधी से बदसलूकी की गई, जिसकी वजह से उन्हें चोट भी पहुंच सकती थी। अब इसको लेकर कांग्रेस की तरफ से सोशल मीडिया के जरिये भी बीजेपी पर निशाना साधा जा रहा है। जिसके लिए संघ प्रमुख के क्रॉप किए हुए पुराने बयान की क्लिप के साथ स्मृति ईरानी के क्लिप को जोड़ कर शेयर किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: दिग्विजय सिंह ने पुलिसकर्मी का पकड़ा कॉलर! शिवराज बोले- ऐसा अशोभनीय व्यवहार पूर्व CM को शोभा नहीं देता

भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष बीवी श्रीनिवास ने ट्वीटर पर स्मृति ईरानी के पुराने भाषण के छोटे से अंश के साथ संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान के अधूरे हिस्से को पेश करते हुए लिखा कि संघ प्रमुख के अनुसार शादी विवाह एक सौदा है। इस पर माफी कौन मांगेगा। बता दें कि इस क्लिप के पहले भाग में स्मृति ईरानी को सदन में चीखते हुए पूरे देश से माफी मांगने के लिए कहते हुए सुना जा सकता है। वहीं इसके साथ ही इस क्लिप में संघ प्रमुख के भाषण के एक हिस्से को दिखाया गया है जिसमें मोहन भागवत कह रहे हैं कि थ्योरी ऑफ कॉन्ट्रैक्ट यानी पत्नी से पति का सौदा तय हुआ है। उसको आप लोग विवाह संस्कार कहते होंगे। ये एक सौदा है। जब तक पत्नी ऐसी है पति कॉन्ट्रैक्ट पूर्ती के लिए उसे रखता है। जो कॉन्ट्रैक्ट पूर्ण नहीं कर सकती उसको छोड़ दो। इस क्लिप के अंत में शत्रुघ्न सिन्हा को किसी टेवीविजन अवार्ड शो में बेस्ट एक्सट्रेस पापुलर के रूप में स्मृति ईरानी के नाम का ऐलान करते हुए दिखाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: Parliament में भारी हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही स्थगित, राष्ट्रपत्नी विवाद पर गर्माया माहौल

क्या था पूरा बयान

लेकिन कांग्रेस नेता की शेयर की गई क्लिप से इतर आप पूरा बयान सुनेंगे तो आसानी से समझ जाएंगे की इसे किस संदर्भ में कहा गया था। दरअसल, मध्‍यप्रदेश के इंदौर में करीब 15 जिलों के करीब डेढ़ लाख कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए आरएसएस मुखिया मोहन भागवत ने जड़ता के सिद्धांत से पति-पत्‍‌नी के संबंध से जोड़ते हुए ये बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि 300 साल पहले मनुष्य अपने विचारों के अहंकारों में विचार करता गया, करता गया। जो मैं कहता हूं वहीं सत्या है ऐसा मानते गया। अहंकार इतना बढ़ गया उसका कि उसने कहा कि परमेश्वर भी है तो उसको मेरे टेस्ट ट्यूब में उपस्थित होना पड़ेगा तभी मानूंगा। ऐसी जब परिस्थिति आई तो बात निकली की दुनिया क्या है। भगवान, परमात्मा वगैरह कुछ है नहीं। सबकुछ जड़ का खेल है। कोई कण आपस में मिल जाते हैं, कुछ बिखड़ जाते हैं। उसमें से ऊर्जा भी निकलती है और पदार्थ भी उत्पन्न होते है। मोहन भागवत के अनुसार एक घर का दूसरे घर से संबंध नहीं इसलिए श्रृष्टि में किसी का किसी से संबंध नहीं है। एक कण का दूसरे कण से कोई संबंध नहीं है। इसलिए सृष्टि में किसी का किसी से कोई संबंध नहीं है। लाखों वर्षों से दुनिया चली आ रही है। ये संबंध की बात नहीं है, ये स्वार्थ की बात है। ये एक सौदा है। थ्योरी ऑफ कॉन्ट्रैक्ट यानी पत्नी से पति का सौदा तय हुआ है। उसको आप लोग विवाह संस्कार कहते होंगे। तुम मेरा घर संभालों, मुझे सुख दो। मैं तुम्हारे पेट-पानी की व्यवस्था ठीक करूंगा। तुमको सुरक्षित रखूंगा। इसलिए इस पर चलता है। जब तक पत्नी ऐसी है पति कॉन्ट्रैक्ट पूर्ती के लिए उसे रखता है। जो कॉन्ट्रैक्ट पूर्ण नहीं कर सकती उसको छोड़ दो। किसी कारण पति कॉन्ट्रैक्ट पूर्ण नहीं कर सकता है तो उसको छोड़ दो। ऐसे ही चलता है। सभी बातों में सौदा है। अपने विनाश के भय के कारण दूसरे की रक्षा करना। पर्यावरण को सुंदर ऱखों नहीं तो मनुष्य का विनाश हो जाएगा। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़