होटल में मृत मिला ठेकेदार, सुसाइड नोट में कर्नाटक के मंत्री ईश्वरप्पा का नाम; गिरफ्तारी की मांग तेज

Eshwarappa
google common license
निधि अविनाश । Apr 13, 2022 9:40AM
मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कथित आत्महत्या का पता चलने के बाद एक निष्पक्ष जांच का आदेश दिया है। पुलिस ने उडुपी में संतोष पाटिल के फोन को ट्रैक किया। वह सोमवार से लापता था। पुलिस को एक सुसाइड नोट भी मिला है जिसमें पाटिल ने अपनी मौत के लिए ईश्वरप्पा को जिम्मेदार ठहराया।

ग्रामीण विकास और पंचायत राज मंत्री के एस ईश्वरप्पा के लिए मुसीबत खड़ी हो सकती है। बता दें कि बेलगावी के ठेकेदार संतोष पाटिल को भाजपा के वरिष्ठ नेता पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने के हफ्तों बाद मंगलवार को उडुपी के एक होटल में मृत पाया गया। मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कथित आत्महत्या का पता चलने के बाद एक निष्पक्ष जांच का आदेश दिया है। पुलिस ने उडुपी में संतोष पाटिल के फोन को ट्रैक किया। वह सोमवार से लापता था। पुलिस को एक सुसाइड नोट भी मिला है जिसमें पाटिल ने अपनी मौत के लिए ईश्वरप्पा को जिम्मेदार ठहराया। यहां तक ​​कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बोम्मई और पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा से भी उनके परिवार की मदद करने की अपील की।

इसे भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ : सार्वजनिक स्थलों पर मास्क नहीं पहनने पर जुर्माने के नियम से छूट

पाटिल की मृत्यु बोम्मई प्रशासन के लिए कठिनाई पैदा कर सकती है। ईश्वरप्पा ने कहा कि पाटिल की मौत से उनका कोई संबंध नहीं है। कांग्रेस की ओर से अपने पद से हटाने की मांग का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, "मुझे इस्तीफा देने की कोई जरूरत नहीं है।" पाटिल का शव शांभवी होटल के एक कमरे के शौचालय में मिला था। जबकि मौत का सही कारण का अभी तक पता नहीं चल पाया है, आत्महत्या की परिस्थितियों की जांच की जा रही है।

मार्च में, पाटिल ने केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह से शिकायत की थी कि उन्हें हिंडालगा गांव में सड़क कार्यों के लिए अभी तक 4 करोड़ रुपये का भुगतान नहीं किया गया है, जिसमें ईश्वरप्पा के सहयोगियों पर भुगतान के लिए कमीशन की मांग करने का आरोप लगाया गया था। ईश्वरप्पा ने आरोपों से इनकार किया था और आरडीपीआर के अतिरिक्त मुख्य सचिव एल के अतीक ने कहा कि विभाग ने पाटिल को कोई भी काम मंजूर नहीं किया था, जिससे फंड जारी किया जा सके। “मौत की गहन जांच की जाएगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़