कोरोना के बीच केरल में मुस्लिमों ने साधारण तरीके से मनाई बकरीद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 31, 2020   15:55
कोरोना के बीच केरल में मुस्लिमों ने साधारण तरीके से मनाई बकरीद

वैश्विक महामारी के चलते इस साल विशाल ईदगाहों में नमाज की अनुमति नहीं है। ईद के त्योहार के दौरान चहल-पहल से भरा रहने वाला कोझिकोड का प्रसिद्ध मिठाई बाजार (मिट्टाई थेरुवु) सुनसान पड़ा रहा क्योंकि यह निषिद्ध क्षेत्र में आता है।

तिरुवनंतपुरम। केरल में मुस्लिम समुदाय ने कोविड-19 वैश्विक महामारी के बीच सरकार द्वारा निर्धारित स्वास्थ्य के सख्त दिशा-निर्देशों पर अमल करते हुए शुक्रवार को बकरीद का जश्न साधारण तरीके से मनाया। दिशा-निर्देशों के मुताबिक, बड़ी मस्जिदों में 100 लोगों को प्रवेश की अनुमति है, लेकिन शीरीरिक दूरी संबंधी नियमों, मास्क पहनने तथा सैनेटाइजर के इस्तेमाल संबंधी सख्त स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य है। निषिद्ध क्षेत्रों की मस्जिदों में लोगों को नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं दी गई है। वैश्विक महामारी के चलते इस साल विशाल ईदगाहों में नमाज की अनुमति नहीं है। ईद के त्योहार के दौरान चहल-पहल से भरा रहने वाला कोझिकोड का प्रसिद्ध मिठाई बाजार (मिट्टाई थेरुवु) सुनसान पड़ा रहा क्योंकि यह निषिद्ध क्षेत्र में आता है। 

इसे भी पढ़ें: ईद के बाद काबुल से शांति वार्ता को तैयार हुआ तालिबान, रिहा हो सकते है कई तालिबान कैदी 

ईद की मुबारकबाद देते हुए, राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने सभी केरलवासियों से कहा, “यह कामना है कि बकरीद का त्योहार जो सर्वशक्तिमान में शाश्वत विश्वास और बलिदान की महिमा का गुणगान करता है, वह हम सभी को प्रेम, करुणा और परस्पर सहयोग के माध्यम से, हमारे नियमित जीवन और कोविड-19 के खिलाफ हमारी जंग में हमें एकजुट बनाए रखे।” मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने भी इस मौके पर लोगों को मुबारकबाद दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।