गुजरात में कोविड-19 महामारी के कारण टली 30,000 शादियां

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2020   18:54
गुजरात में कोविड-19 महामारी के कारण टली 30,000 शादियां

वेडिंग प्लानर देवांग शाह ने कहा कि 18 मई से लॉकडाउन में कुछ रियायत की घोषणा की गई थी लेकिन होटल, रेस्तरां, समारोह स्थल और मंदिर बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं जिससे लोगों के लिए शादियों और संबंधित कार्यों को आयोजित करना मुश्किल हो गया है।

अहमदाबाद। कोविड-19 महामारी के कारण गुजरात में शादी-समारोह से जुड़े उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। पिछले दो महीनों में राज्य में लगभग 30,000 शादियां टाल दी गई हैं। उद्योग से जुड़े सूत्रो ने यह जानकारी दी। होटल और रेस्तरां एसोसिएशन (गुजरात) के प्रवक्ता अभिजीत देशमुख ने कहा कि पिछले दो महीनों में राज्य भर में कम से कम 30,000 शादियां या तो तोड़ दी गई हैं या टाल दी गई हैं। राज्य में मार्च और अप्रैल शादियों का मौसम माना जाता है। वेडिंग प्लानर देवांग शाह ने कहा कि भव्य भारतीय शादी का विचार त्यागते हुए, कुछ जोड़ों ने आठ से 10 करीबी रिश्तेदारों की मौजूदगी में शादी के बंधन में बंधने का फैसला किया। उन्होंने कहा कि 18 मई से लॉकडाउन में कुछ रियायत की घोषणा की गई थी लेकिन होटल, रेस्तरां, समारोह स्थल और मंदिर बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं जिससे लोगों के लिए शादियों और संबंधित कार्यों को आयोजित करना मुश्किल हो गया है। 

इसे भी पढ़ें: मेघा परमार ने बांटे मास्क, एक साल पहले आज ही के दिन जीता था माउंट एवरेस्ट 

शाह ने कहा, ‘‘लोग अपनी बुकिंग रद्द कर रहे हैं और दिसंबर-जनवरी में अगले शुभ मूहूर्त की प्रतीक्षा कर रहे हैं। जो लोग इंतजार नहीं करना चाहते हैं वे परिवार के कुछ चुनिंदा सदस्यों की उपस्थिति में घर पर शादी कर रहे हैं। मेरे दो पूर्व ग्राहकों ने ऐसा ही किया है।’’ डेकोरेटर और कैटरर अमल गांधी ने कहा कि लोगों के पास केवल 50 मेहमानों के साथ एक छोटा समारोह आयोजित करने का विकल्प है लेकिन बहुत कम इसमें रुचि दिखा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कुछ जोड़ों ने कोर्ट मैरिज का भी विकल्प चुना और बाद में कभी भव्य शादी समारोह आयोजित करने की योजना बनाई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।