CRPF ने सोशल मीडिया पर फर्जी तस्वीरों के खिलाफ लोगों को किया आगाह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 17, 2019   17:49
CRPF ने सोशल मीडिया पर फर्जी तस्वीरों के खिलाफ लोगों को किया आगाह

सीआरपीएफ ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल सीआरपीएफइंडिया पर कहा, ‘‘कृपया इस तरह की तस्वीरें और पोस्ट सर्कुलेट/शेयर/लाइक न करें।

नयी दिल्ली। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों के क्षत - विक्षत शवों की सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही ‘फर्जी तस्वीरों’के खिलाफ सीआरपीएफ ने रविवार को लोगों को आगाह किया। बृहस्पतिवार को हुए इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए। सीआरपीएफ ने कहा कि यह संज्ञान में आया है कि सोशल मीडिया पर कुछ शरारती तत्व हमारे शहीदों के क्षत - विक्षत शवों की फर्जी तस्वीरें नफरत पैदा करने के लिए साझा कर रहे हैं, जबकि हम एकजुट हैं।

सीआरपीएफ ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल सीआरपीएफइंडिया पर कहा, ‘‘कृपया इस तरह की तस्वीरें और पोस्ट सर्कुलेट/शेयर/लाइक न करें। सुरक्षाबल ने इस तरह की किसी भी विषय-वस्तु की सूचना‘‘वेबपीआरओऐटसीआरपीएफडॉटजीओवीडॉटइन’’ पर देने को कहा है।

 

यह भी पढ़ें: पुलवामा हमले का बदला: हुर्रियत नेताओं की सुरक्षा वापस ली गई

अधिकारियों ने बताया कि क्षत विक्षत शवों की तस्वीरें साझा की जा रही है और इस बारे में सुरक्षाबल को जानकारी मिली है, इसके बाद यह परामर्श जारी किया गया। वहीं सुरक्षाबल ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि कश्मीर के छात्रों की प्रताड़ना की कुछ फर्जी खबरें सोशल मीडिया पर शरारती तत्व साझा कर रहे हैं। सीआरपीएफ हेल्पलाइन ने शिकायतों की जांच की और उन्हें गलत पाया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।