ग्वालियर में दलित कार्यकर्ता को बेहरहमी से पीटा, जबरन पिलाया पेशाब

ग्वालियर में दलित कार्यकर्ता को बेहरहमी से पीटा, जबरन पिलाया पेशाब

दलित आरटीआई एक्टिविस्ट शशिकांत जाटव को पंचायत में हुए भ्रष्टाचार की जानकारी आरटीआई के तहत मांगना महंगा पड़ गया।इस बात से नाराज सरपंच पति और पंचायत सचिव ने आरटीआई एक्टिविस्ट शशिकांत जाटव हो कमरे में बंद कर जमकर पीटा,आरोप तो यह भी है कि आरटीआई एक्टिविस्ट शशिकांत को आरोपियों ने जूते में भरकर पेशाब भी पिला दिया।

भोपाल। मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में एक ग्राम पंचायत से संबंधित जानकारी मांगने पर एक 33 वर्षीय दलित सूचना अधिकार (आरटीआई) कार्यकर्ता को 7 लोगों ने कथित तौर पर पीटा और पेशाब पीने के लिए मजबूर किया है।

जानकारी देते हुए कहा कि एक अधिकारी ने कहा कि यहां एक अस्पताल में प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर रूप से घायल शशिकांत जाटव को आगे के इलाज के लिए एम्स में भर्ती कराया गया है।पुलिस ने ये भी कहा कि 23 फरवरी को हुई इस घटना के बाद 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

इसे भी पढ़ें:महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर उज्जैन में बनेगा विश्व रिकॉर्ड, 21 लाख दीयों से रोशन होगा शहर 

इस मामले में दलित संगठन और बहुजन समाज पार्टी लामबंद हो गए हैं। लिहाजा बीएसपी ने घटना के विरोध में एसपी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया और एसएसपी अमित सांघी को आरोपियों के विरुद्ध धारा 307 के तहत मुकदमा दर्ज किए जाने उनके शस्त्र लाइसेंस निरस्त किए जाने और उनकी शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की है।

हालांकि इस मामले में एसपी का कहना है कि दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है अन्य आरोपियों की तलाश जारी है मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद आरोपियों के खिलाफ अन्य धाराओं में भी मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें:एक बार फिर शिवराज सरकार ने लिया 2000 करोड़ का कर्ज, जारी किया नोटिफिकेशन 

अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने पीड़िता की शिकायत के हवाले से कहा कि जाटव ने पनिहार थाना क्षेत्र के बरही ग्राम पंचायत के बारे में आरटीआई के तहत जानकारी मांगी थी। और इस बात से नाराज बरही सरपंच के पति, पंचायत सचिव व अन्य ने 23 फरवरी को उन्हें ग्राम पंचायत कार्यालय बुलाया।

आपको बता दें कि पीड़ित को पहले एक कमरे में बंद कर दिया गया और फिर आरोपी ने कथित तौर पर बुरी तरह पीटा। जिसने उसके खिलाफ जातिवादी टिप्पणी भी की। अधिकारी ने यह भी कहा कि पीड़िता के अनुसार आरोपी ने उसे जूते से पेशाब पीने के लिए भी मजबूर किया।

इसे भी पढ़ें:अर्जुन सिंह खेमे से नरसिम्हा राव की तरफ मुड़े थे दिग्विजय, ऐसे हुई थी 46 वर्ष की उम्र में ताजपोशी 

उन्होंने कहा कि जाटव को पहले यहां जयारोग्य अस्पताल और मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। लेकिन फिर बाद में उन्हें आगे के इलाज के लिए दिल्ली के एम्स रेफर कर दिया गया। उन्होंने बताया कि पुलिस ने सात लोगों के खिलाफ हत्या और अपहरण के प्रयास और अनुसूचित जाति एवं जनजाति अधिनियम के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया है।

उन्होंने कहा कि पीड़िता के बयान के बाद मामले में और दंडात्मक प्रावधान जोड़े जा सकते हैं। अधिकारी ने बताया कि सात आरोपियों की पहचान आशा कौरव, संजय कौरव, धामू, भूरा, गौतम, विवेक शर्मा और सरनाम सिंह के रूप में हुई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।