5 दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी मौत, पोस्टमार्टम के लिए कब्र से बाहर निकाला गया शव

5 दिन पहले संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी मौत, पोस्टमार्टम के लिए कब्र से बाहर निकाला गया शव

5 दिन पहले टेंट कारोबारी भूरी खान नाम के युवक की लाश अपनी ही दुकान के भीतर संदिग्ध परिस्थितियों में मिली थी। उस समय मृतक के परिजन शादी में व्यस्त थे, कुछ लोगों द्वारा युवक की मौत करंट लगने से होना बताई गई थी।

भोपाल। मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले से एक अजीब खबर सामने आई है। परिजनों की तरफ से हत्या की आशंका जताने पर पुलिस और प्रशासन की टीमों ने घटना के 5 दिन बाद मृतक युवक के शव को कब्र से बाहर निकलवाया है। पुलिस ने दो डॉक्टरों की निगरानी में मृतक युवक के शव का पोस्ट मार्टम भी करवाया और मामले की जांच फिर से शुरू कर दी है।

दरअसल यह पूरा मामला वीरपुर थाना क्षेत्र के श्यामपुर गांव का है। जहां 5 दिन पहले टेंट कारोबारी भूरी खान नाम के युवक की लाश अपनी ही दुकान के भीतर संदिग्ध परिस्थितियों में मिली थी। उस समय मृतक के परिजन शादी में व्यस्त थे, कुछ लोगों द्वारा युवक की मौत करंट लगने से होना बताई गई थी। लेकिन परिजनों ने मृतक के शव को बिना पीएम कराए ही कब्रिस्तान में दफन कर दिया था।

इसे भी पढ़ें:शहडोल दौरे पर रहेंगे सीएम शिवराज, रोजगार मेले में होंगे शामिल 

हालांकि परिजनों को टेंट दुकान से जरूरी कागजात और कारोबारी की डायरी जब गायब मिली, तो उन्हें भूरी की मौत को लेकर कुछ शक हो गया। वहीं पूछताछ में अलग-अलग बातें सामने भी आने लगी। जिसके बाद उन्होंने पुलिस और प्रशासन से मांग की थी कि मृतक के शव को कब्र से बाहर निकालकर उसका पीएम कराया जाए।

वहीं पुलिस और प्रशासन की टीमों ने गुरुवार को मृतक युवक के शव को कब्र से बाहर निकलवा कर दो डॉक्टरों की टीम से पीएम कराया है। पोस्टमार्टम के दौरान युवक के शव पर करंट या किसी भी चोट के कोई निशान नहीं मिले हैं। परिजन जहरीला पदार्थ खिलाकर युवक की हत्या करने की आशंका जता रहे हैं।

इसे भी पढ़ें:बोरवेल में गिरने से मासूम की मौत, 18 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन 

आपको बता दें कि पुलिस ने कहा कि परिजनों की मांग पर शव को कब्र से बाहर निकलवा कर पीएम करवाया गया है। पीएम रिपोर्ट और जांच के दौरान जो भी तथ्य आएंगे उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी। अब देखना यह होगा कि रिपोर्ट में क्या कुछ निकलकर सामने आता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...