बोरवेल में गिरने से मासूम की मौत, 18 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

बोरवेल में गिरने से मासूम की मौत, 18 घंटे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

उमरिया जिले के बड़छड़ गांव में बोरबेल में गिरे 4 साल के मासूम गौरव दुबे को बचाने एनडीआरएफ ने 18 घंटे रेस्क्यू ऑपरेशन किया। टीम ने बोरबेल के समानान्तर 28 फीट का जेसीबी से गड्ढा बनाने के बाद टनल बनाकर मासूम को निकाला।

भोपाल। मध्य प्रदेश के उमरिया जिले में खुले बोरवेल के गड्ढे में गिरे 4 वर्षीय गौरव दुबे जिंदगी की जंग हार गया। 18 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद 200 फिट बोर में करीब 28 फीट में गौरव फंसा था। जिसे बाहर निकाल लिया गया है, लेकिन बीएमओ बरही ने उसे मृत घोषित कर दिया।

दरअसल उमरिया जिले के बड़छड़ गांव में बोरबेल में गिरे 4 साल के मासूम गौरव दुबे को बचाने एनडीआरएफ ने 18 घंटे रेस्क्यू ऑपरेशन किया। टीम ने बोरबेल के समानान्तर 28 फीट का जेसीबी से गड्ढा बनाने के बाद टनल बनाकर मासूम को निकाला। जिसके बाद गौरव को लाइफ सपोर्ट सिस्टम के माध्यम से नजदीकी सामुदायिक स्वाथ्य केंद्र बरही ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

इसे भी पढ़ें:भोपाल में एमबीबीएस की हिंदी में पढ़ाई शुरू, मंत्री विश्वास सारंग ने दी जानकारी 

चिकित्सकों ने कहा कि गौरव की मौत बोरबेल में गिरने से पांच से छह घंटे के भीतर हो गई थी। गौरव बोरवेल में सिर के बल ही गिरा था। इसलिए बोरबेल में भरे पानी में डूबने के बाद भी गौरव जीवन और मौत के बीच लगातार 10 घंटे तक संघर्ष करने के बाद जिंदगी से जंग हार गया।

आपको बता दें कि 4 साल का गौरव दुबे पिता संतोष दुबे अपनी मां के साथ खेत में गया हुआ था। तभी खेत में खुले पड़े 30 फीट गहरे बोरवेल में गिर गया। बच्चे के बोरवेल में गिरने की सूचना के बाद पूरा गांव इकठ्ठा हो गया। सभी बच्चे से सुरक्षित बाहर निकालने की दुआ मांग रहे थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।