दिल्ली की वायु गुणवत्ता अभी भी 'खराब' श्रेणी में, दिन में सुधार होने की संभावना

Air Quality
दिल्ली का शनिवार सुबह नौ बजे एक्यूआई 263 रहा जबकि शुक्रवार को गत 24 घंटे का औसत एक्यूआई 296 दर्ज किया गया था। इसी प्रकार दिल्ली में गत बृहस्पतिवार और बुधवार को एक्यूआई क्रमश: 283 और 211 रहा था।

नयी दिल्ली। दिल्ली की वायु गुणवत्ता में शनिवार को अनुकूल हवाओं की गति की वजह से आंशिक सुधार हुआ, लेकिन अब भी यह ‘खराब’ श्रेणी में बनी हुई है। सरकारी एजेंसियों ने बताया कि वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) में दिन के समय और सुधार होगा और इसके ‘मध्यम’ श्रेणी में जाने की उम्मीद है। दिल्ली का शनिवार सुबह नौ बजे एक्यूआई 263 रहा जबकि शुक्रवार को गत 24 घंटे का औसत एक्यूआई 296 दर्ज किया गया था। इसी प्रकार दिल्ली में गत बृहस्पतिवार और बुधवार को एक्यूआई क्रमश: 283 और 211 रहा था। 

इसे भी पढ़ें: चिकित्सकों की सलाह के बाद सोनिया गांधी पहुंचीं गोवा, वायु गुणवत्ता में सुधार के साथ लौटेंगी वापस 

उल्लेखनीय है कि शून्य से 50 के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच संतोषजनक, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘अत्यंत खराब’ और 401 से 500 के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है। दिल्ली स्थित केंद्र सरकार की वायु गुणवत्ता पूर्वानुमान प्रणाली ने बताया कि दिल्ली-एनसीआर की वायु गुणवत्ता में शनिवार को और सुधार होने व ‘मध्यम’ श्रेणी में आने की उम्मीद है। इसके मुताबिक सतह पर हवाओं की दिशा उत्तर पश्चिम की ओर है और शनिवार को इसकी अधिकतम गति 20 किलोमीटर प्रतिघंटे रही। 

इसे भी पढ़ें: सांस लेने में हो रही थी मुश्किल, लोगों ने खरीदे एयर प्यूरीफायर, अभी भी बाजार में डिमांड ज्यादा 

केंद्रीय एजेंसी ने बताया कि मंगलवार से शुक्रवार के बीच प्रतिकूल मौसमी परिस्थितियों की वजह से एक्यूआई में गिरावट आएगी और इसके ‘ बहुत खराब’ श्रेणी में जाने की आशंका है। केंद्रीय एजेंसी ने बताया कि पाकिस्तान की सीमा से लगे पंजाब के इलाकों और हरियाणा में शुक्रवार को पराली जलाने की करीब 800 घटनाएं दर्ज की गईं। पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की वायु गुणवत्ता निगरानी ऐप ‘ सफर’ के मुताबिक शुक्रवार को दिल्ली की हवा में मौजूद पीएम-2.5 में पराली की हिस्सेदारी 15 फीसदी रही।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़