दिल्ली में डेंगू का कहर, 260 नए मामले सामने आए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2018   15:41
दिल्ली में डेंगू का कहर, 260 नए मामले सामने आए

इस बीच डॉक्टरों ने लोगों को सलाह दी है कि वे सुनिश्चित करें कि उनके घरों के अंदर मच्छर प्रजनन ना करें। वे पूरी बांह के कपड़े पहने और मच्छरदानी का इस्तेमाल करें।

 नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में पिछले एक सप्ताह में डेंगू के कम से कम 260 नए मामले सामने आए हैं जिससे इस साल मच्छर के कारण होने वाली इस बीमारी से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़कर 2,406 हो गई। सोमवार को जारी नगर निगम की एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई। रिपोर्ट के अनुसार इस महीने 24 नवम्बर तक डेंगू के करीब 811 मामले सामने आए हैं। अक्टूबर में करीब 1,114 मामले सामने आए।

रिपोर्ट में बताया गया है कि इस दौरान मलेरिया के 466 मामले और चिकुनगुनिया के 154 मामले भी सामने आए हैं। इस साल डेंगू के कुल 2406 मामलों में से 374 मामले सितम्बर में दर्ज किए गए। अगस्त में 58 मामले, जुलाई में 19 मामले, जून में आठ मामले, मई में 10 मामले, अप्रैल में दो, मार्च में एक, फरवरी में तीन और जनवरी में छह मामले सामने आए।

दक्षिण दिल्ली नगर निगम (एसडीएमसी) के अनुसार मलेरिया से फरवरी में दो, अप्रैल और मार्च में एक-एक, मई में 17, जून में 25, जुलाई में 42, अगस्त में 82, सितम्बर में 138 और अक्टूबर में 130 लोग पीड़ित हुए। एसडीएमसी ही शहर में मच्छर से होने वाली बीमारियों का डेटा जमा करता है।

इस बीच डॉक्टरों ने लोगों को सलाह दी है कि वे सुनिश्चित करें कि उनके घरों के अंदर मच्छर प्रजनन ना करें। वे पूरी बांह के कपड़े पहने और मच्छरदानी का इस्तेमाल करें। वॉटर कूलर के इस्तेमाल में ना होने पर उन्हें खाली कर सुखा लें, क्योंकि मच्छरों के सबसे अधिक वहीं प्रजनन करने की आशंका होती है। मच्छर के कारण होने वाली बीमारियां जुलाई से नवम्बर के बीच अधिक होती है, यह अवधि दिसम्बर मध्य तक भी बढ़ सकती है। राष्ट्रीय राजधानी में पिछले साल मच्छर के कारण होने वाली बीमारियों से करीब 9,271 लोग प्रभावित हुए थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।