स्वेच्छा से रक्तदान करने वालों के लिए सार्वभौमिक कार्ड जारी करने की लोकसभा में मांग उठी

Tirath Singh Rawat
ANI Photo.
भाजपा सांसद तीरथ सिंह रावत ने कहा ऐसे लोगों को सार्वभौमिक रक्त दान कार्ड जारी किया जाना चाहिए जो देश के हर कोने में और प्रत्येक अस्पताल में मान्य हो। उन्होंने कहा कि कार्ड को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए सख्त नियम बनाये जाएं।

नयी दिल्ली|  लोकसभा में सोमवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के एक सदस्य ने सरकार से अनुरोध किया कि स्वेच्छा से रक्तदान करने वाले लोगों के लिए पूरे देश में मान्य कार्ड जारी किया जाए।

निचले सदन में नियम 377 के तहत उक्त विषय को उठाते हुए भाजपा सांसद तीरथ सिंह रावत ने कहा कि देश में ऐसे अनेक लोग हैं जो स्वेच्छा से रक्तदान करते हैं लेकिन आवश्यकता पड़ने पर जब वह अपने रक्तदान कार्ड का उपयोग करना चाहते हैं तो कई अस्पताल उन्हें स्वीकार नहीं करते।

रावत ने कहा ऐसे लोगों को सार्वभौमिक रक्त दान कार्ड जारी किया जाना चाहिए जो देश के हर कोने में और प्रत्येक अस्पताल में मान्य हो। उन्होंने कहा कि कार्ड को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए सख्त नियम बनाये जाएं।

भाजपा के ही जगदंबिका पाल ने उत्तर प्रदेश में बारिश की कमी की वजह से फसलों को होने वाले नुकसान का आकलन करने के लिए केंद्रीय समिति भेजने और किसानों को क्षतिपूर्ति दिये जाने का अनुरोध सरकार से किया।

जनता दल (यूनाइटेड) के कौशलेंद्र कुमार ने कोविड-19 महामारी के दौरान मनरेगा के कार्यदिवस कम किये जाने का उल्लेख करते हुए सरकार से मांग की कि गांवों में रोजगार की इस योजना में काम करने के दिन बढ़ाकर 100 किये जाएं। भाजपा के छेदी पासवान ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित करने की घोषणा करने की मांग की।

सत्तासीन पार्टी के ही राजू विष्ट ने चाय बागान के मजदूरों के लिए जमीन अधिकार सुनिश्चित करने के वास्ते कानून बनाने की सरकार से मांग की।

भाजपा के देवेंद्र सिंह भोले ने नियम 377 के तहत दिव्यांगों के विषय को उठाते हुए मांग की कि उत्तर प्रदेश में मूक-बधिर और दिव्यांगों के उपचार के लिए अखिल भारतीय वाक एवं श्रवण संस्थान खोला जाना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़