कांग्रेस नेता संग मुलाकात के बाद बोले राज्यपाल धनखड़, बंगाल में विपक्ष चुनाव की स्वतंत्रता को लेकर आशांकित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   16:11
कांग्रेस नेता संग मुलाकात के बाद बोले राज्यपाल धनखड़, बंगाल में विपक्ष चुनाव की स्वतंत्रता को लेकर आशांकित

राज्यपाल ने कहा कि उन्होंने राज्य में राजनीति के लगातार होते अपराधीकरण और अगले साल अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनाव पर इसके असर के बारे में चर्चा की। धनखड़ ने कहा, जिस तरह से लोक सेवक राजनीतिक कार्यकर्ता के रूप में कार्य कर रहे हैं, यह लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए अच्छा संकेत नहीं है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ से रविवार को विधानसभामें विपक्ष के नेता अब्दुल मन्नान ने मुलाकात की, जिसके बाद राज्यपाल ने कहा कि कांग्रेस नेता ने राज्य में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव को लेकर आशंका व्यक्त की है। राज्यपाल ने कहा कि मुलाकात के दौरान मन्नान ने जोर दिया कि चुनाव के दौरान केंद्रीय बलों की तैनाती और नियंत्रण निष्पक्ष हाथों में होना चाहिए। मन्नान ने दार्जीलिंग में राजभवन में राज्यपाल से मुलाकात की। इसके बाद, धनखड़ ने कहा, हमने पश्चिम बंगाल के मौजूदा परिपेक्ष्य के बारे में चर्चा की। उन्होंने इस बात पर काफी चिंता व्यक्त की कि राज्य का तंत्र पूरी तरह से राजनीतिक हो गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के टीके के वितरण के संबंध में प्रधानमंत्री की बैठक में शामिल होंगी ममता बनर्जी

राज्यपाल ने कहा कि उन्होंने राज्य में राजनीति के लगातार होते अपराधीकरण और अगले साल अप्रैल-मई में होने वाले विधानसभा चुनाव पर इसके असर के बारे में चर्चा की। धनखड़ ने कहा, जिस तरह से लोक सेवक राजनीतिक कार्यकर्ता के रूप में कार्य कर रहे हैं, यह लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए अच्छा संकेत नहीं है। राज्यपाल ने कहा कि राज्य में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए जरूरी है कि पर्याप्त संख्या में केंद्रीय बलों को लाया जाए और उनका नियंत्रण निष्पक्ष हाथों में हो।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।