दुधवा टाइगर रिजर्व एक नवंबर से फिर खुलेगा, पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाया गया कदम

Dudhwa Tiger Reserve
दुधवा टाइगर रिजर्व के निदेशक संजय कुमार पाठक ने बताया कि एक नवंबर को दुधवा के द्वार पर्यटकों के लिए खुल जाएंगे लेकिन कोविड-19 की सुरक्षा के चलते इसमें विशेष सावधानी बरती जाएगी और किसी भी तरह के उल्‍लंघन को गंभीरता से लिया जाएगा।

लखीमपुर खीरी। कोविड-19 महामारी के चलते पर्यटकों के लिए बंद दुधवा टाइगर रिजर्व (डीटीआर) इस बार 15 दिन पहले ही एक नवंबर से खुलेगा। विपरीत परिस्थियों में भी पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए यह पहल की जा रही है। दुधवा टाइगर रिजर्व के निदेशक संजय कुमार पाठक ने यह जानकारी दी। 

इसे भी पढ़ें: भारत बाघों के प्रबंधन का नेतृत्व करने को तैयार, जावड़ेकर बोले- यह हमारी प्राकृतिक संपदा है 

उन्‍होंने बताया कि एक नवंबर को दुधवा के द्वार पर्यटकों के लिए खुल जाएंगे लेकिन कोविड-19 की सुरक्षा के चलते इसमें विशेष सावधानी बरती जाएगी और किसी भी तरह के उल्‍लंघन को गंभीरता से लिया जाएगा। आमतौर पर दुधवा टाइगर रिजर्व पर्यटकों के लिए 15 नवंबर से शुरू होकर 15 जून तक खुला रहता है। इस बार 15 दिन पहले ही इसे खोला जा रहा है। कोविड-19 के प्रकोप के बाद विपरीत परिस्थितियों में दुधवा टाइगर रिजर्व को पिछले 22 मार्च को पर्यटन के बीच सत्र में बंद करना पड़ा। 

दुधवा टाइगर रिजर्व के अधिकारी का कहना है कि इससे पार्क के राजस्‍व पर असर पड़ा लेकिन पर्यटकों की आवाजाही न होने से जंगली जानवरों को बिना किसी अवरोध के अपने क्षेत्रों में वापस आने में सहूलियत हुई। अधिकारी के मुताबिक प्रवेश द्वार पर पर्यटकों की थर्मल स्‍क्रीनिंग होगी और इसके बाद केवल उन पर्यटकों को परिसर में प्रवेश की इजाजत दी जाएगी जिनको कोविड-19 संक्रमण के कोई लक्षण नहीं होंगे। कोविड-19 के प्रोटोकाल का पूरी तरह पालन होगा और 11 वर्ष से 65 वर्ष की आयु के लोगों को परिसर में प्रवेश मिलेगा। इस बार 10 वर्ष से कम उम्र के बच्‍चों और 65 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों, रोगियों और गर्भवती महिलाओं को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: कारगिल युद्ध में भारत के वीर जवानों का अदम्य साहस देख चौंक गयी थी दुनिया 

पाठक ने बताया कि भ्रमण के दौरान सभी को मास्‍क लगाना होगा। पर्यटक, गाइड को हर समय मास्‍क लगाना होगा और अगर किसी ने इसका उल्‍लंघन किया तो आर्थिक दंड लगाया जाएगाा। उन्‍होंने बताया कि इस बार पर्यटकों को हाथी की सवारी करने की अनुमति नहीं रहेगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़