मिजोरम में फिर भूकंप का झटका, प्रदेश में पांच हफ्ते में 23 वीं बार हिली धरती

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 25, 2020   10:46
मिजोरम में फिर भूकंप का झटका, प्रदेश में पांच हफ्ते में 23 वीं बार हिली धरती

राष्ट्रीय भूकंप केंद्र ने कहा है कि प्रदेश में शुक्रवार को पूर्वाह्न 11 बज कर 16 मिनट पर भूकंप का झटका महसूस किया गया जिसका केंद्र चंफई से 29 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में स्थित था। चंफई की पुलिस उपायुक्त मारिया सी टी जुआली ने बताया कि भूकंप और भारी बारिश के कारण विभिन्न स्थानों पर भूस्खलन की घटना हुयी।

आइजोल। मिजोरम की भारत म्यामां सीमा पर स्थित चंफई जिले में भूकंप का झटका महसूस किया गया। भूकंप की तीव्रता 3.8 मापी गयी। पिछले पांच हफ्ते में पूर्वोत्तर प्रदेश में 23 वीं बार भूकंप से धरती हिली है। राष्ट्रीय भूकंप केंद्र ने इसकी जानकारी दी है। राष्ट्रीय भूकंप केंद्र :एनसीएस: ने कहा है कि प्रदेश में शुक्रवार को पूर्वाह्न 11 बज कर 16 मिनट पर भूकंप का झटका महसूस किया गया जिसका केंद्र चंफई से 29 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में स्थित था। चंफई की पुलिस उपायुक्त मारिया सी टी जुआली ने पीटीआई को बताया कि भूकंप और भारी बारिश के कारण विभिन्न स्थानों पर भूस्खलन की घटना हुयी।

इसे भी पढ़ें: मिजोरम में 18 जून से अब तक आए हैं 22 भूकंप, मानसिक सदमे से उबरने में लोगों की मदद करेंगे मनोवैज्ञानिक

उन्होंने बताया कि भूस्खलन के कारण दो इमारतों को खाली करा लिया गया है और दंग्तालंग गांव में जल आपूर्ति प्रणाली क्षतिग्रस्त हो गयी है। उन्होंने बताया कि क्षति का आकलन किया जा रहा है। अधिकारी ने बताया कि कई लोगों ने शिवि​र, टेंट एवं अन्य अस्थायी आवास बना लिए हैं और लगातार आ रहे भूकंपों के कारण लोग घरों के बाहर ही सो रहे हैं। अधिकारियों के अनुसार जिला प्रशासन उन लोगों को सभी जरूरी चीजें मुहैया करा रहा है जिनमें पानी, सोलर लैंप, आदि शामिल है। प्रदेश में 18 जून के बाद से एक के बाद एक, कई बार भूकंप का झटका महसूस किया गया है जिसमें चंफई सबसे अधिक प्रभावित है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।