ED ने दो चीनी नागरिकों को किया गिरफ्तार, चीन की कंपनियों के लिए करते थे काम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2021   16:55
  • Like
ED ने दो चीनी नागरिकों को किया गिरफ्तार, चीन की कंपनियों के लिए करते थे काम

ईडी ने धनशोधन मामले में चीन के दो नागरिकों को गिरफ्तार किया है।पेंग का नाम पिछले साल हिमाचल प्रदेश में दो व्यक्तियों को हिरासत में लिये जाने के संबंध में सामने आया था, जो कथित तौर पर उसके निर्देश पर तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा की गतिविधियों पर नज़र रख रहे थे।

नयी दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अनुमानत: 1,000 करोड़ रुपये के एक कथित हवाला रैकेट से जुड़े घोटाले में अपनी धनशोधन जांच के सिलसिले में चीन के दो नागरिकों को गिरफ्तार किया है। यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को दी। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय जांच एजेंसी ने चार्ली पेंग उर्फ ​​लुओ सांग (42) और कार्टर ली को 15 जनवरी को धनशोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत गिरफ्तार किया। उन्हें शनिवार को यहां एक स्थानीय अदालत के समक्ष पेश किया गया जिसने उन्हें 14 दिन की हिरासत में भेज दिया।

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने फिर दोहराया, कहा- कृषि कानून से किसानों की आय बढ़ेगी कई गुना

पेंग के खिलाफ ईडी का मामला पिछले साल की एक आयकर विभाग की जांच और 2018 में उसके खिलाफ दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ द्वारा दर्ज एक प्राथमिकी से उपजा है। पेंग का नाम पिछले साल हिमाचल प्रदेश में दो व्यक्तियों को हिरासत में लिये जाने के संबंध में सामने आया था, जो कथित तौर पर उसके निर्देश पर तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा की गतिविधियों पर नज़र रख रहे थे। आयकर विभाग ने गत अगस्त में चीन के नागरिक और उसके कुछ कथित सहयोगियों के खिलाफ छापेमारी की थी जिसमें बैंकर भी शामिल थे। सूत्रों ने आरोप लगाया था कि पेंग के पास एक फर्जी भारतीय पासपोर्ट था। कर अधिकारियों ने दावा किया था कि उसने पिछले दो-तीन वर्षों में ‘‘चीन से हवाला राशि इधर उधर करने के लिए जाली कंपनियों का जाल’’ बनाया था। सूत्रों ने कहा था कि उसके दिखाये का व्यवसाय मेडिकल एवं इलेक्ट्रॉनिक सामान और कुछ अन्य वस्तुओं के आयात और निर्यात का था।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

सूत्रों ने कहा कि पेंग को दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने सितंबर 2018 में धोखाधड़ी और जालसाजी के आरोप में गिरफ्तार किया था और वह कथित रूप से एक अवैध मनी चेंजर चला रहा था। सूत्रों ने कहा था कि ईडी और आई-टी विभाग दोनों इस आरोपों की जांच कर रहे हैं कि क्या पेंग दिल्ली में रहने वाले कुछ तिब्बतियों को ‘‘रिश्वत’’ दे रहा था। पिछले साल अगस्त में सीबीडीटी ने एक बयान में संलिप्त इकाइयों की पहचान बताये बिना कहा था कि उसकी छापेमारी इस ‘‘विश्वसनीय सुराग’’ पर आधारित थी कि कुछ चीनी व्यक्तियों और उनके भारतीय सहयोगी शेल इकाइयों के माध्यम से धनशोधन और हवाला लेनदेन में शामिल थे। उसने कहा था कि ‘‘चीनी कंपनियों की सहायक कंपनियों और उससे संबंधित इकाइयों ने भारत में खुदरा शोरूमों के व्यवसाय खोलने के लिए शेल इकाइयों से 100 करोड़ रुपये से अधिक की फर्जी अग्रिम राशि ली है।’’ सीबीडीटी ने कहा था कि हांगकांग और अमेरिकी डॉलर से जुड़े विदेशी हवाला लेनदेन के साक्ष्य का भी खुलासा हुआ है। उन्होंने कहा कि ईडी द्वारा ली के खिलाफ इसी तरह के आरोप की जांच की जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


PM मोदी के बंगाल विजय का बिग्रेड प्लान, लोकसभा में टीएमसी हाफ, इस बार साफ

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 7, 2021   16:28
  • Like
PM मोदी के बंगाल विजय का बिग्रेड प्लान, लोकसभा में टीएमसी हाफ, इस बार साफ

पश्चिम बंगाल में सियासत के संड के दिन पीएम मोदी की ममता बनर्जी के साथ चुनावी जोरआजमाइश होती नजर आई। चुनावी ब्लॉकबस्टर में आज सबसे जबरदस्त रही प्रधानमंत्री मोदी की कोलकाता में रैली जो कोलकाता के ऐतिहासिक ब्रिग्रेड परेड मैदान में हुई।

पश्चिम बंगाल की सियासत में ये कहावत मशहूर है कि जिसका बिग्रेड परेड उसका बंगाल। करीब 1 हजार एकड़ का दायरा और तीन किलोमीटर की लंबाई। कोलकाता का दिल माने जाने वाला ब्रिगेड परेड ग्राउंड जिसे यहां के लोग मैदान कहकर पुकारते हैं। चाहे वो पूर्व पीएम भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी हो या इंदिरा गांधी सभी ने कोलकाता के इस बिग्रेड परेड मैदान से हुंकार भरी है।ममता बनर्जी चाहती हैं कि बंगाल के चुनाव में महंगाई मुद्दा बने। इसीलिए एलपीजी सिलेंडर की महंगाई को थीम बनाकर उन्होंने सिलीगुड़ी में रोड शो किया। पीएम मोदी ने कहा कि राजनीतिक जीवन में सैकड़ों रैलियों को संबोधित करने का सौभाग्य मिला है, लेकिन इतने लंबे कार्यकाल में मैंने कभी इतने बड़े विशाल जन समूह का हमें आशीर्वाद मिला हो ऐसा दृश्य मुझे आज देखने को मिला है। बंगाल की इस धरती ने हमारे संस्कारों को ऊर्जा दी है। बंगाल की इस धरती ने भारत की आज़ादी के आंदोलन में नए प्राण फूंके। बंगाल की इस धरती ने ज्ञान-विज्ञान में भारत का गौरव बढ़ाया। आज ब्रिगेड ग्राउंड में आप लोगों की हुंकार सुनने के बाद अब किसी को कोई संदेह नहीं रह जाएगा। कुछ लोगों को तो लगता होगा कि शायद आज 2 मई आ गई है।

चुनाव ही नहीं लोगों का दिल भी जीतेंगे 

इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल की माटी में सबकुछ है। टी लेकर टूरिज्म तक, माछ से लेकर भात तक बहुत संभावनाएं हैं। कोलकाता सिटी ऑफ जॉय है, इसमें विरासत भी है और संभावनाएं भी। ये कहते हुए पीएम मोदी ने बंगाल की जनता को  पूरे कमिटमेंट के साथ काम करने का आश्वासन दिया। प्रगति, शांति और उन्नति के बंगाल को सोनार बांग्ला बनाने का संकल्प पूरा करने की बात कहते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि काम, सेवा, परिश्रम, सम्पर्ण से केवल चुनाव ही नहीं बल्कि लोगों का दिल भी जीतेंगे।

इसे भी पढ़ें: ममता के स्कूटी पर पीएम मोदी की चुटकी, कहा- स्कूटी ने नंदीग्राम में ही गिरना तय किया तो हम क्या करें

एक विधान, एक निशान, एक प्रधान के लिए बलिदान देने वाला सपूत इस धरती से मिला

पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल से निकले महान व्यक्तित्वों ने एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना को सशक्त किया। बंगाल की इस धरती ने एक विधान, एक निशान, एक प्रधान के लिए बलिदान देने वाला सपूत हमें दिया। ऐसी पावन मिट्टी को मैं नमन करता हूं। ब्रिगेड ग्राउंड के आसपास, एक तरफ स्वामी विवेकानंद जी का जन्मस्थान है, दूसरी तरफ नेताजी सुभाष चंद्र बोस का निवास स्थान है, एक तरफ महर्षि श्री ऑरोबिन्दों का जन्मस्थान है, तो दूसरी तरफ श्यामा प्रसाद मुखर्जी का जन्मस्थान है। ये कोलकाता, बंगाल पूरे भारत की बहुत बड़ी प्रेरणा स्थली है। बीते दशकों में ब्रिगेड ग्राउंड में अनेकों बार ये नारा गूंजा है- ब्रिगेड चलो। इस ग्राउंड ने अनेक देशभक्तों को देखा है।

पीएम मोदी ने कहा कि बंगाल ने परिवर्तन के लिए ही ममता दीदी पर भरोसा किया था। लेकिन दीदी और उनके काडर ने ये भरोसा तोड़ दिया। इन लोगों ने बंगाल का विश्वास तोड़ा। इन लोगों ने बंगाल को अपमानित किया। यहां की बहन-बेटियों पर अत्याचार किया। इस बार के विधानसभा चुनाव में एक तरफ TMC है, लेफ्ट-कांग्रेस है, उनका बंगाल विरोधी रवैया है, और दूसरी तरफ खुद बंगाल की जनता कमर कसकर खड़ी हो गई है। आज भाजपा को आशीर्वाद देने के लिए लाखों लोगों का यहां आना, लाखों लोगों का प्रदेश भर में निरंतर आशीर्वाद बनाये रखना। सामान्य मानवी हो, बंगाल के बौद्धिक जन हो, कला जगत के लोग हों, सभी अपना प्रेम और आशीर्वाद बरसा रहे हैं। हम सिर्फ चुनाव में नहीं, हम हर पल आपका दिल जीतते रहेंगे- अपने काम के द्वारा, सेवा के द्वारा, समर्पण के द्वारा, परिश्रम के द्वारा। वामपंथियों के विरुद्ध ममता दीदी ने पोरिवर्तन का नारा दिया था। पश्चिम बंगाल से मां, माटी, मानुष के लिए काम करने का वादा किया था। पिछले 10 साल से यहां TMC की सरकार है, क्या सामान्य बंगाली परिवार के जीवन में वो परिवर्तन आया जिसकी उसे अपेक्षा थी?

पीएम ने शोभा मजमूदार का मुद्दा उठाया

पीएम मोदी ने शोभा मजमूदार पर हमले का मुद्दा भी उठाया। बंगाल की 80 साल की बूढ़ी मां के साथ निर्ममता हुई। बंगाल में मां, माटी और मानुष की क्या स्थिति है बंगाल ये अच्छी तरह जानता है। 

आशोल पोरिबोरतोन का विश्वास दिलाने आया  

पीएम मोदी ने कहा कि मैं ब्रिगेड ग्राउंड से आपको इस आशोल पोरिबोरतोन का विश्वास दिलाने आया हूं। विश्वास, बंगाल के विकास का। विश्वास, बंगाल में स्थितियों के बदलने का। विश्वास, बंगाल में निवेश बढ़ने का। विश्वास, बंगाल के पुनर्निर्माण का। विश्वास, बंगाल की संस्कृति की रक्षा का।  

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस-लेफ्ट पर पीएम मोदी का तंज, कहा- जो हाथ काला था वो आज सफेद कैसे हो गया?

हां मैं अपने दोस्तों के लिए काम करता हूं

पीएम मोदी ने कहा कि आज कल तो हमारे विरोधी भी कहते हैं कि मैं दोस्तों के लिए काम करता हूं। हम सभी जानते हैं कि बचपन में हम जहां पले-बढ़े होते हैं, बचपन में जहां खेले-कूदे होते हैं, जिनके साथ पढ़े होते हैं, वो हमारे जीवन भर के पक्के दोस्त होते हैं। मैं भी गरीबी में पला-बढ़ा और इसलिए उनका दुख-दर्द क्या है, चाहे वो हिंदुस्तान के किसी भी कोने में क्यों न हो, क्योंकि वो हमारे दोस्त हैं, उनको मैं भली-भांति अनुभव का सकता हूं। इसलिए मैं दोस्तों के लिए काम करता हूं और मैं दोस्तों के लिए ही काम करता रहूंगा। बंगाल के चायवाले, यहां के टी गार्डन्स में काम करने वाले हमारे भाई-बहन तो मेरे विशेष दोस्त हैं। मेरे ऐसे कामों से उनकी भी अनेक परेशानियां कम हो रही हैं। हमारी सरकार के प्रयासों से मेरे इन चायवाले दोस्तों को सोशल सेक्योरिटी स्कीम्स का भी लाभ मिलना तय हुआ है। कोरोना ने पूरी दुनिया में सबको परेशान किया लेकिन मेरे ये गरीब दोस्त ही थे, जो बहुत परेशान हुए। जब कोरोना आया तो मैंने अपने हर दोस्त को मुफ्त में राशन दिया, मुफ्त गैस सिलेंडर दिया और करोड़ों रुपए बैंक खाते में जमा करवाए। दुनिया में कोरोना वैक्सीन इतनी महंगी है। लेकिन मैंने अपने दोस्तों के लिए सरकारी अस्पताल में मुफ्त में टीका लगाने का प्रबंध किया। मेरे आप सभी दोस्त बताइए, दोस्ती चलेगी या तोलाबाजी?बहनों और भाइयों, आपके इसी जोश से दीदी और उनके साथियों की नींद उड़ी हुई है। तभी तो ये लोग कह रहे हैं कि इस बार - खेला होबे।

खुद पर होते हमलों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आपको याद होगा मेरे लिए क्या क्या कहा गया है। कभी रावण कहा गया, कभी दानव, कभी दैत्य तो कभी गुंडा कहा गया। दीदी, इतना गुस्सा क्यों? इसके बाद उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में आपने- चुप-चाप कॉमल छाप से कमाल किया। आपके एक वोट की ताकत आपने कश्मीर से लेकर अयोध्या तक देखी है। इस बार आपको जोर से कमल छाप, TMC साफ के इरादे से आगे बढ़ना है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली कार को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 7, 2021   16:09
  • Like
मुकेश अंबानी के घर के बाहर मिली कार को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया

मुंबई के कलीना में स्थित फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) में कार की जांच की जाएगी जिससे उसमें मौजूद खून के धब्बा, बाल या अन्य कोई सुराग मिल सके।

मुंबई। उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के बाहर पिछले महीने मिली एक कार और जिलेटिन की छड़ों को मुंबई पुलिस ने फॉरेंसिक विश्लेषण के लिए भेज दिया है। एक अधिकारी ने बताया कि मुंबई के कलीना में स्थित फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) में कार की जांच की जाएगी जिससे उसमें मौजूद खून के धब्बा, बाल या अन्य कोई सुराग मिल सके। उन्होंने कहा कि जांच में मिले किसी भी साक्ष्य से कार को चलाकर अंबानी के घर तक ले जाने वाले और उसमें बैठे लोगों के बारे में पता चल सकता है। अधिकारी ने कहा कि प्रयोगशाला की रिपोर्ट एक सप्ताह में आ जाएगी। 

इसे भी पढ़ें: संदिग्ध कार के मालिक मनसुख के मौत की मिस्ट्री, किस पुलिस अधिकारी का नाम लेकर बीजेपी ने सवाल उठाए?

एफएसएल के एक अधिकारी ने कहा कि प्रयोगशाला में इसका पता लगाया जाएगा कि छड़ों में जिलेटिन की मात्रा कितनी है। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों की सहायता से एफएसएल यह भी जानने की कोशिश करेगी कि क्या कार का चेसिस नंबर बदला भी गया था। इससे कार के असली मालिक और किसके नाम पर वाहन पंजीकृत था, इसका पता लगाने में मदद मिलेगी। अधिकारी ने कहा कि फॉरेंसिक प्रयोगशाला ने इस मामले को प्राथमिकता दी है और एक सप्ताह में रिपोर्ट सौंप दी जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


कांग्रेस-लेफ्ट पर पीएम मोदी का तंज, कहा- जो हाथ काला था वो आज सफेद कैसे हो गया?

  •  अभिनय आकाश
  •  मार्च 7, 2021   16:03
  • Like
कांग्रेस-लेफ्ट पर पीएम मोदी का तंज, कहा- जो हाथ काला था वो आज सफेद कैसे हो गया?

पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे ही नारों के दम पर वामपंथी सत्ता में आए, लगभग तीन दशक तक सत्ता संभाली। आज उस काले हाथ का क्या हुआ?जिस हाथ को वामपंथी काला समझते थे, वो आज सफेद कैसे हो गया? जिस हाथ को तोड़ने की बात करते थे, आज उसी का आशीर्वाद लेकर वो चल रहे हैं।

कोलकाता की रैली में आज पीएम मोदी ने कांग्रेस-लेफ्ट दलों पर निशाना साधते हुए दोनों के गठबंधन को भी निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि आजादी के नारे पर कांग्रेस सत्ता में आई थी। आजादी के बाद कुछ समय काम हुआ, लेकिन फिर बंगाल पर वोटबैंक की राजनीति हावी होती चली गई। इस राजनीति को वामपंथियों ने और बढ़ाया और नारा दिया- "कांग्रेसेर कालो हाथ, भेंगे दाओ, गुड़िये दाओ! 

इसे भी पढ़ें: ममता के स्कूटी पर पीएम मोदी का तंज, कहा- स्कूटी ने नंदीग्राम में ही गिरना तय किया तो हम क्या करें

पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे ही नारों के दम पर वामपंथी सत्ता में आए, लगभग तीन दशक तक सत्ता संभाली। आज उस काले हाथ का क्या हुआ?जिस हाथ को वामपंथी काला समझते थे, वो आज सफेद कैसे हो गया? जिस हाथ को तोड़ने की बात करते थे, आज उसी का आशीर्वाद लेकर वो चल रहे हैं। इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने बंगाल की मुख्यमंत्री को भी निशाने पर लेते हुए कहा कि वामपंथियों के विरुद्ध ममता दीदी ने पोरिवर्तन का नारा दिया था। पश्चिम बंगाल से मां, माटी, मानुष के लिए काम करने का वादा किया था। पिछले 10 साल से यहां TMC की सरकार है, क्या सामान्य बंगाली परिवार के जीवन में वो परिवर्तन आया जिसकी उसे अपेक्षा थी?





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept