'इस बार, मोदी बेरोजगार' के नारे से चुनावी मैदान में उतरेगी माकपा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 22 2019 2:03PM
'इस बार, मोदी बेरोजगार' के नारे से चुनावी मैदान में उतरेगी माकपा
Image Source: Google

माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य बृंदा करात ने भाषा को बताया कि पार्टी इस चुनाव में देश के मतदाताओं के समक्ष तीन अपीलें करेगी। पहली अपील है- ‘देश बचाओ मोदी सरकार हटाओ’।

नयी दिल्ली। माकपा ने देश को मोदी सरकार की नीतियों से मुक्त कराने की रणनीति को लोकसभा चुनाव में प्रचार अभियान के केन्द्र में रखते हुये ‘इस बार, मोदी बेरोजगार’ नारे को प्रचार का मूलमंत्र बनाया है। माकपा की प्रचार अभियान रणनीति को अंतिम रूप देने के लिये पार्टी महासचिव सीताराम येचुरी की अगुवाई में पिछले एक सप्ताह से जारी मैराथन बैठकों में यह फैसला किया गया है। माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य बृंदा करात ने भाषा को बताया कि पार्टी इस चुनाव में देश के मतदाताओं के समक्ष तीन अपीलें करेगी। पहली अपील है- ‘देश बचाओ मोदी सरकार हटाओ’। दूसरी अपील है- ‘वैकल्पिक नीति के लिये माकपा और वामदलों की संख्या बढ़ाओ’। और तीसरी अपील है- ‘देश में धर्मनिरपेक्ष सरकार बनाओ।’ 

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: माकपा की पहली सूची में 45 उम्मीदवारों के नाम, बंगाल की 16 सीटों पर कैंडिडेट्स तय

करात ने कहा कि इन नारों के माध्यम से जनता को पिछले पांच साल में सांप्रदायिक कट्टरता, किसान संकट और बेरोजगारी जैसी समस्याओं से निजात दिलाने के लिये ‘इस बार मोदी बेरोजगार’ नारा चुनाव अभियान का मूलमंत्र होगा। उल्लेखनीय है कि माकपा ने भाजपा की ‘मैं भी चौकीदार’ मुहिम के जवाब में यह नारा गढ़ा है। उन्होंने बताया कि माकपा के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी यह नारा बेहद लोकप्रिय हुआ और अब इसे जनता के बीच ले जायेंगे। पार्टी की चुनावी रणनीति के बारे में करात ने बताया, ‘माकपा ने वामदलों के साथ मिलकर लड़ने वाली सीटों को चिन्हित करने के बाद अपने उम्मीदवारों की घोषणा शुरु कर दी है। इसके अलावा जिन सीटों पर वाम दल नहीं लड़ेंगे, उन पर हम विपक्षी दलों के उस उम्मीदवार को जिताने की अपील करेंगे जो भाजपा को हराने में सक्षम होगा।’

उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी मानती है कि जनता ने मोदी सरकार को हराने में सक्षम उम्मीदवारों को मत देने का मन बना लिया है। इसलिये सभी प्रांतों की पृथक जमीनी हकीकत को देखते हुये हम ऐसी रणनीति के तहत आगे बढ़ रहे हैं कि भाजपा के खिलाफ मतों का विभाजन न्यूनतम हो। विपक्ष की एकजुटता पर उठते सवालों पर उन्होंने कहा, ‘राजग में घटकदलों के टकराव को छुपाने के लिये विपक्षी दलों में विखंडन का दुष्प्रचार किया जा रहा है। सच्चाई यह है कि सभी विपक्षी दलों का लक्ष्य, संविधान बचाने के लिये देश को मोदी सरकार से मुक्त कराना है।’



इसे भी पढ़ें: राहुल ने केरल में शुरू किया चुनाव प्रचार, माकपा-RSS पर जमकर निशाना साधा

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के साथ तालमेल की बात नहीं बनने के सवाल पर करात ने कहा कि वहां हमारी सीधी लड़ाई भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के साथ है। वहां कांग्रेस की चार और माकपा की दो सीट थी। हमने तय किया इन छह सीटों पर हम एक दूसरे के लिये बाधक नहीं बनेंगे। आपस की इस समझ पर हम दोनों कायम हैं। माकपा के चुनाव अभियान में देरी के सवाल पर वरिष्ठ माकपा नेता ने कहा, ‘चुनाव अभियान में देरी बिल्कुल नहीं हो रही है। जहां हम अकेले लड़ रहे हैं वहां माकपा और वामदलों ने उम्मीदवार घोषित कर दिये हैं। लेकिन जहां अन्य दलों से मिलकर लड़ रहे हैं वहां थोड़ा समय लगना लाजिमी है। पश्चिम बंगाल और केरल सहित अन्य राज्यों में हमारे उम्मीदवारों की दो सूची जारी हो गयी हैं। शेष उम्मीदवार भी जल्द घोषित हो जायेंगे।’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप