• उद्धव ठाकरे के सलाहकार पर IT विभाग की नजर, फ्लैट डील को लेकर कस सकता है शिकंजा

अभिनय आकाश Jul 20, 2021 20:48

आयकर विभाग अजोय मेहता के नरीमन प्वाइंट वाले फ्लैट से जुड़ी डील पर बेनामी संपत्ति के तहत जांच कर रहा है। मेहता को महारेरा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। जांच में खुलासा हुआ कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सलाहकार ने अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड नाम की जिस कंपनी से ये फ्लैट खरीदा था वह एक शेल कंपनी है।

महाविकास अघाड़ी सरकार में शामिल तीनों पार्टी के नेता इन दिनों घोटाला, मनी लॉन्ड्रिंग और बेनामी संपत्ति के मामलों में लगातार फंसते जा रहे हैं। अनिल देशमुख, धनंजय मुंडे, संजय राठोड, अनिल भोसले एक के बाद एक विधायक किसी न किसी विवाद में फंसते जा रहे हैं। ताजा मामला उद्धव ठाकरे के सलाहकार का सामने आया है। उद्धव ठाकरे के सलाहकार और पूर्व नौकरशाह अजोय मेहता पर आयकर विभाग शिकंजा कसने की तैयारी में है। आयकर विभाग अजोय मेहता के नरीमन प्वाइंट वाले फ्लैट से जुड़ी डील पर बेनामी संपत्ति के तहत जांच कर रहा है। मेहता को फरवरी 2021 में महारेरा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। जांच में खुलासा हुआ कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के सलाहकार ने अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड नाम की जिस कंपनी से ये फ्लैट खरीदा था वह एक शेल कंपनी है।

इसे भी पढ़ें: जब तक मैं मुख्यमंत्री था महाराष्ट्र सरकार ने एनएसओ की सेवा नहीं ली : फडणवीस

अजोय मेहता आईटी की रडार पर

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, आयकर विभाग के बेनामी सेक्शन की तरफ से इस बात की जानकारी दी गई है। जिस कंपनी से यह प्रॉपर्टी खरीदी गई है, उसके दो अंशधारक थे। ये दोनों मुंबई के एक चॉल में रहते हैं। रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि यह कंपनी इस फ्लैट की डील के लिए ही तैयार की गई थी। कंपनी की बैलेंस शीट से कई अनियमितताएं सामने आई हैं। साथ ही दोनों अंशधारकों ने रिटर्न भी दाखिल नहीं किया है। 

 फ्लैट डील की हो रही जांच

दस्तावेजों से यह भी खुलासा हुआ है कि मेहता ने साल 2020 में 5.33 करोड़ रुपए में 1076 स्क्वायर फीट का फ्लैट खरीदा था। इससे पहले साल 2009 में यह प्रॉपर्टी अनामित्रा प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड ने 4 करोड़ रुपए में खरीदी थी। कंपनी के दो शेयर होल्डर्स में से एक कामेश नथुनी सिंह के इस कंपनी में 99 फीसदी शेयर हैं। इनका पता ओबरॉय मॉल के पास बताया गया है। इसके बावजूद उन्होंने अभी तक अपना आयकर रिटर्न नहीं भरा है। वहीं, दूसरे शेयर होल्डर का नाम दीपेश सिंह रावत है। उसने साल 2020-21 में केवल एक बार ही रिटर्न भरा था। इसमें उन्होंने अपनी आय 1 लाख 71 हजार 2 रुपए बताई थी।