Matrubhoomi: महाराणा प्रताप और अकबर के बीच लड़ी गयी थी इतिहास की सबसे कठोर जंग, कौन था हल्दीघाटी युद्ध का विजेता?

Matrubhoomi: महाराणा प्रताप और अकबर के बीच लड़ी गयी थी इतिहास की सबसे कठोर जंग, कौन था हल्दीघाटी युद्ध का विजेता?

मेवाड़ के एक शक्तिशाली राजपूत शासक महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 को राजस्थान के कुंभलगढ़ में महाराणा उदय सिंह द्वितीय और रानी जीवन कंवर के यहाँ हुआ था। 1576 में उन्होंने मुगल सम्राट अकबर के साथ हल्दीघाटी की लड़ाई लड़ी। यह बहुत बड़ी लड़ाई थी लेकिन महाराणा ने बड़े साहस के साथ युद्ध किया।

मेवाड़ के रण में एक ऐसी लड़ाई लड़ी गयी थी जिसका विजेता कौन था यह आज तक स्पष्ट नहीं हुआ हैं। आज से लगभग 450 साल पहले मुगलों और राजपूतों के बीच 1576 में हल्दीघाटी की लड़ाई हुई थी। हल्दीघाटी की लड़ाई 18 जून 1576 को मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप और मुगल सम्राट अकबर की सेना का समर्थन करने वाले घुड़सवार और धनुर्धारियों के बीच लड़ी गई लड़ाई थी। हल्दीघाटी युद्ध का नेतृत्व मान सिंह प्रथम ने किया था। सालों बीत चुके हैं लेकिन आज तक यह दावे के साथ नहीं कहा जा सकता है कि यह लड़ाई किसने जीती थी कथित तौर पर माना जाता है कि मुगल इस लड़ाई में विजेता थे। युद्ध के दौरान जब अकबर और महाराणा प्रताप के बीच तलवारे चली तो यह युद्ध चार घंटे तक चलता रहा। किसी भी पक्ष ने हार नहीं मानी थी। बहादुरी के साथ अकबर से महाराणा प्रताप युद्ध करते रहे। दोनों की तलवारे आपस में बार बार टकराती और कुछ देर बार दूर हो जाती थी, लेकिन कोई भी हार मानने को राजी नहीं था। हल्दीघाटी की लड़ाई इतिहास की मुगलों और राजपूतों के बीच हुई सबसे मशहूर लड़ाई थी।

इसे भी पढ़ें: Matrubhoomi: कौन हैं Father of Indian Navy ? जिनसे कांपते थे विदेशी आक्रांता, ऐसे बनाई थी नौसेना

हल्दीघाटी की लड़ाई का विजेता कौन था?

मेवाड़ के एक शक्तिशाली राजपूत शासक महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई 1540 को राजस्थान के कुंभलगढ़ में महाराणा उदय सिंह द्वितीय और रानी जीवन कंवर के यहाँ हुआ था। 1576 में उन्होंने मुगल सम्राट अकबर के साथ हल्दीघाटी की लड़ाई लड़ी। यह बहुत बड़ी लड़ाई थी लेकिन महाराणा ने बड़े साहस के साथ युद्ध किया। हालांकि चार घंटे की लंबी लड़ाई ने इसे इतिहास के पन्नों में दर्ज करवा दिया, लेकिन यह अभी भी स्पष्ट नहीं है कि इसे किसने जीता। जबकि कुछ का मानना ​​है कि यह युद्ध एक ड्रॉ फोरमेट में समाप्त हुआ। कई लोग मानते हैं कि यह अकबर ही था जो एक विजेता के रूप में उभरा। कथित तौर पर यह भी कहा जाता है कि इस युद्ध में मुगल विजेता थे और मेवाड़ियों के बीच महत्वपूर्ण हताहत हुए लेकिन मुगल महाराणा प्रताप को पकड़ने में विफल रहे, वह अचानक युद्ध से गायब हो गये थे। यह भी कहा जाता है कि वह किसी खुफिया रास्ते से निगल गये थे। महाराणा प्रताप बनाम अकबर की लड़ाई में कौन बड़ा था यह एक सतत लड़ाई है और हाल ही में सुर्खियों में रही है। हालांकि दोनों नेता अपने आप में महान थे, लेकिन दोनों की तुलना करना हमेशा मुश्किल होता है।

 

इसे भी पढ़ें: Matrubhoomi: कहानी सियाचिन ग्लेशियर की, जिसे दुनिया का सबसे ऊंचा युद्ध क्षेत्र कहा जाता है


महाराणा प्रताप ने ठुकराया था अकबर का फरमान

1568 में चित्तौड़गढ़ की घेराबंदी के कारण मुगलों को मेवाड़ के उपजाऊ पूर्वी क्षेत्र का नुकसान हुआ था। हालाँकि बाकी जंगली और पहाड़ी राज्य अभी भी राणा के नियंत्रण में थे। अकबर मेवाड़ के माध्यम से गुजरात के लिए एक स्थिर मार्ग हासिल करने पर आमादा था। जब 1572 में प्रताप सिंह को राजा (राणा) का ताज पहनाया गया, तो अकबर ने कई दूत भेजे और राणा को क्षेत्र के कई अन्य राजपूत नेताओं की तरह एक जागीरदार बनने के लिए कहा। राणा ने अकबर की इस मांग को ठुकरा दिया। जिसके बाद युद्ध की घोषणा की गयी।

युद्ध का स्थल राजस्थान में गोगुन्दा के निकट हल्दीघाटी में एक संकरा पहाड़ी दर्रा था। दोनों तरफ से कितनी सेना था इसका अनुमान सही तरह से अभी तक सामने नहीं आया है लेकिन मुगलों की तुलना में राजपूतों के सैनिक मुठ्ठीभर थे। एक चौथाई सैनिकों ने अपना दमखल दिखाया और मुगली सेना को हराते चले गये। मेवाड़ियों द्वारा प्रारंभिक सफलताओं के बावजूद, ज्वार धीरे-धीरे उनके खिलाफ हो गया और प्रताप ने खुद को घायल पाया। कहा जाता है कि अपने महराज को बचाने के लिए सैनिकों ने ही महाराणा प्रताप को कवर करके बाहर निकालने में मदद की थी।

लड़ाई में हताहतों की संख्या

लड़ाई में हताहतों के अलग-अलग संख्या है, जिनके बारे में कोई ठोस जानकारी नहीं है यह किताबों और इतिहासकारों के अनुसार जारी किए गये हैं। 

जदुनाथ सरकार के अनुसार समकालीन मेवाड़ी सूत्रों ने हताहतों में इसकी कुल ताकत का 46% यानी की लगभग 1,600 पुरुषों की गिनती की थी। 

अबुल फजल और निजामुद्दीन अहमद के अनुसार 150 मुगलों का अंत हो गया, जबकि 350 अन्य घायल हो गए, जबकि मेवाड़ सेना ने 500 लोगों को खो दिया। 

बदायुनी का कहना है कि युद्ध में 500 लोग मारे गए थे, जिनमें से 120 मुसलमान थे। 

बाद में राजस्थानी इतिहासकारों ने युद्ध के पैमाने पर जोर देने के लिए हताहतों की संख्या 20,000 तक बढ़ा दी है।

दोनों तरफ राजपूत सैनिक थे। भयंकर संघर्ष के एक चरण में, बदायूंनी ने आसफ खान से मित्रवत और शत्रु राजपूतों के बीच अंतर करने के लिए कहा। आसफ खान ने उत्तर दिया, "आप जिसे चाहें गोली मार दें, जिस तरफ वे मारे जा सकते हैं, वह इस्लाम के लिए एक लाभ होगा।" केएस लाल ने इस उदाहरण का हवाला देते हुए अनुमान लगाया कि उनके लिए बड़ी संख्या में हिंदू सैनिक मारे गए थे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।