किसान प्रदर्शन कर रहे हैं और केंद्र की योजनाएं बताने में लगे हुए हैं प्रधानमंत्री: थोराट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 26, 2020   08:38
किसान प्रदर्शन कर रहे हैं और  केंद्र की योजनाएं बताने में लगे हुए हैं प्रधानमंत्री: थोराट

कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि केंद्र प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के लिए सालाना 54,000 करोड़ रुपये उधार लेता है और किसान को सालाना 6,000 रुपये मिलते हैं, जो एक दिन में 17 रुपये होते हैं, लेकिन यही सरकार 2015 से 2019 के बीच उद्योगपतियों का 7,94,354 करोड़ रुपये का ऋण माफ कर देती है।

मुंबई। महाराष्ट्र कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और राज्य सरकार में मंत्री बालासाहेब थोराट ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले कई दिनों से दिल्ली में हजारों किसान कड़ाके की ठंड में विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार की योजनाओं महत्व बताने करने में व्यस्त हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को एक कार्यक्रम में नौ करोड़ किसानों को प्रधानमंत्री-किसान योजना के तहत 18,000 करोड़ रुपये जारी किए।

थोराट ने कहा, किसान मांग कर रहे हैं कि नए कृषि कानूनों को खत्म किया जाए, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना जैसी अपनी योजनाओं का महत्व दिखाने में व्यस्त हैं। इसके अलावा किसानों को 2,000 रुपये की मामूली रकम दी जा रही है जबकि उद्योगपति मित्रों को भारी लाभ मिल रहा है। कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि केंद्र प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के लिए सालाना 54,000 करोड़ रुपये उधार लेता है और किसान को सालाना 6,000 रुपये मिलते हैं, जो एक दिन में 17 रुपये होते हैं, लेकिन यही सरकार 2015 से 2019 के बीच उद्योगपतियों का 7,94,354 करोड़ रुपये का ऋण माफ कर देती है। थोराट ने कहा कि मोदी सरकार ने ईंधन, रसोई गैस आदि की कीमतों में भी वृद्धि की है, इन सभी ने आम आदमी को काफी प्रभावित किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।