गांव नहीं जाएंगे किसान, राकेश टिकैत बोले- कोरोना हुआ तो इलाज यहीं होगा

गांव नहीं जाएंगे किसान, राकेश टिकैत बोले- कोरोना हुआ तो इलाज यहीं होगा

राकेश टिकैत ने कहा कि हम किसानों को यहां से जाने के लिए नहीं कहेंगे। हम 5 महीनें से यहां हैं, ये तो अब हमारा गांव है। यहां कैंप लगवाया जाए, हम वैक्सीन लगवाएंगे।

देश में बढ़ते कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के बीच किसानों का आंदोलन भी लगातार जारी है। कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर किसान लगातार 5 महीने से आंदोलन कर रहे हैं। इन सबके बीच उनकी आंदोलन की वजह से सड़कों पर अभी जाम लग रहे है। दावा यह किया जा रहा है कि किसान आंदोलन की वजह से सड़क जाम है, ऐसे में ऑक्सीजन को पहुंचने में देर हो रही है। अब इसी बात को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने पलटवार किया है। राकेश टिकैत ने कहा कि सप्लाई रोको यह तक नहीं पता है कि बॉर्डर खुला है। उन्होंने मांग की कि इसकी जांच होनी चाहिए कि आखिर वे ऐसी बातें क्यों कर रहे हैं।

राकेश टिकैत ने कहा कि हम किसानों को यहां से जाने के लिए नहीं कहेंगे। हम 5 महीनें से यहां हैं, ये तो अब हमारा गांव है। यहां कैंप लगवाया जाए, हम वैक्सीन लगवाएंगे। हम यहां कम लोगों को रखेंगे और बैठक नहीं होगी, लोग आते जाते रहेंगे। आज हम 2 दिन के लिए हरियाणा जाएंगे। उन्होंने कहा कि किसान किसी भी हाल में गांव नहीं जाएंगे। अगर कोरोना हुआ तो उसका इलाज किसान यही कराएंगे। यहां से अस्पताल भी पास में है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...