पहले MSP बढ़ी फिर डीजल के दाम बढ़ते रहे, अब कैसे होगा किसानों को फायदा ?

पहले MSP बढ़ी फिर डीजल के दाम बढ़ते रहे, अब कैसे होगा किसानों को फायदा ?

खरीफ की फसल की बात की जाए तो किसान सबसे ज्यादा धान की बुवाई करते हैं और सरकार ने धान की एमएसपी में 53 रुपए का इजाफा किया है और दूसरी तरफ धीरे-धीरे डीजल के दामों में लगातार इजाफा करती रही।

नयी दिल्ली। सरकार ने किसानों की आय में बढ़ोत्तरी करने के लिए धान समेत 14 खरीफ फसलों की एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) को बढ़ाने का ऐलान कर दिया। कोरोना की वजह से उपजे संकट के बीच यह किसानों के लिए किसी राहत से कम नहीं था लेकिन लगातार बढ़ रही डीजल की कीमत के बाद सारा हिसाब-किताब बराबर हो गया।

खरीफ की फसल की बात की जाए तो किसान सबसे ज्यादा धान की बुवाई करते हैं और सरकार ने धान की एमएसपी में 53 रुपए का इजाफा किया है और दूसरी तरफ धीरे-धीरे डीजल के दामों में लगातार इजाफा करती रही। डीजल की कीमतों में लगातार हो रहे इजाफे से किसान परेशान नजर आ रहा है। 

इसे भी पढ़ें: MSP में हुई मामूली बढ़ोतरी, किसानों को नहीं होगा कोई फायदा: किसान कांग्रेस 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि इस समय धान की बुवाई जोरो से चल रही है। महंगा डीजल होने की वजह से धान की बुवाई भी महंगी हो जाएगी। इसके साथ ही खाद और बीज लाने में अब ज्यादा पैसा खर्च होगा।

डीजल के बढ़े दामों ने बढ़ाई लागत !

एक तरफ सरकार ने एमएसपी बढ़ाकर किसानों को बेहतर आय का रास्ता दिखा दिया तो दूसरी तरफ जो किसानों को अतिरिक्त मुनाफा मिलने वाला था वह डीजल के बढ़े हुए दामों से कमतर हो गया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जब किसान की लागत ही बढ़ जाएगी इससे किसानों को क्या फायदा होगा। 

इसे भी पढ़ें: सरकार ने किसानों से किया छल, MSP को कानूनी रूप से बाध्यकारी बनाया जाए: कांग्रेस 

एक किसान ने बताया कि यह समय धान की बुवाई करने का है। अगर अच्छी बारिश होती है तो भी कम से कम 4-5 बार पानी लगाना पड़ता है। ऐसे में पानी लगाने में डीजल की भी खपत होती है और डीजल के बढ़े हुए दामों की वजह से लागत काफी ज्यादा बढ़ जाएगी। ऐसे में एमएसपी बढ़ने से हमें कोई भी प्रॉफिट नहीं होगा।

राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के संयोजक वीएम सिंह ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा एमएसपी में इजाफा किए जाने के बाद डीजल की कीमतों में 18 से 20 फीसदी की बढ़ोतरी हो चुकी है और इसकी सीधी मार किसानों पर पड़ रही है। इस दौरान वीएम सिंह ने सरकार से किसानों को एटीएफ यानी विमान ईंधन के दाम पर ही डीजल मुहैया कराने की मांग की ताकि किसानों को राहत मिल सके।  

इसे भी पढ़ें: खरीफ फसलों पर MSP में बढ़ोतरी के नाम पर सरकार ने किया छलावा, अभी चर्चा के स्तर पर ही हैं सुधार: कांग्रेस 

गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल के दाम पहले की तुलना में काफी कम हुए हैं। ऐसे में लोग पेट्रोल-डीजल के दामों में गिरावट की उम्मीद लगाए हुए बैठे थे लेकिन सरकार लगातार तेल के दामों में बढ़ोतरी कर रही है। आलम यह है कि डीजल के दाम पेट्रोल से भी आगे निकल चुका है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।