महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चल रही सियासी हलचल के बीच सिंधिया ने दिया ये बयान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 11, 2019   15:03
महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चल रही सियासी हलचल के बीच सिंधिया ने दिया ये बयान

कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मीडिया से कहा कि फिलहाल बातचीत चल रही है, जिसे किसी निष्कर्ष पर पहुंचना जरूरी है।

ग्वालियर। महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए राकांपा तथा कांग्रेस द्वारा शिवसेना को समर्थन देने पर चल रही बातचीत के बीच कांग्रेस महासचिव ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस के इस सरकार में शामिल होने के बारे में कोई टिप्पणी करने से सोमवार को इनकार किया। उन्होंने कहा कि लेकिन महाराष्ट्र की जनता के लिए इस समय वहां एक सरकार का बनना बहुत जरूरी है।

इसे भी पढ़ें: कानूनी विशेषज्ञों ने महाराष्ट्र में गतिरोध पर कहा, राज्यपाल के समक्ष सभी विकल्प खुले

सिंधिया महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए गठित कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष थे। यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार में शामिल होगी, सिंधिया ने यहां मीडिया से कहा कि फिलहाल बातचीत चल रही है, जिसे किसी निष्कर्ष पर पहुंचना जरूरी है। लेकिन मैं इस मुद्दे पर इस समय कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में जनमत शिवसेना और भाजपा की गठबंधन सरकार के लिए आया था, लेकिन अब वहां विचित्र स्थिति बन गई है।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर NCP ने कहा, विकल्प मुहैया कराना हम सभी की जिम्मेदारी

सिंधिया ने कहा कि इस समय वहां एक सरकार का बनना बहुत जरूरी है। महाराष्ट्र की जनता को सरकार मिलनी चाहिए, जिससे वहां कामकाज हो सके। राम जन्मभूमि पर उच्चतम न्यायालय के निर्णय के बारे में सिंधिया ने कहा, ‘‘देश में अमन-चैन है और शीर्ष अदालत ने जो निर्णय दिया है, उसका सभी को सम्मान करना चाहिए। इसके साथ अब देश के दूसरे अहम मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए, जिससे देश में विकास और प्रगति हो।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।