पूर्व मुख्यमंत्री ने शिवराज सरकार पर उठाए कई सवाल, कहा - सिर्फ खाओ और खाने की स्थिति प्रदेश में नजर आती है

पूर्व मुख्यमंत्री ने शिवराज सरकार पर उठाए कई सवाल, कहा - सिर्फ खाओ और खाने की स्थिति प्रदेश में नजर आती है

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फिर भ्रष्टाचार और घोटालों को लेक शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि एक छोटे से अफसर के घर में छापे से करोड़ों की रकम बरामद हो रही है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले उपचुनाव के पहले कांग्रेस लगातार सूबे की शिवराज सरकार पर लगातार निशाना साध रही है।  पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने फिर भ्रष्टाचार और घोटालों को लेक शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधा है। कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि एक छोटे से अफसर के घर में छापे से करोड़ों की रकम बरामद हो रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में खाओ और खाने दो ही चल रहा है।

इसे भी पढ़ें:भोपाल के एक निजी स्कूल के फैसले पर बौखलाया बाल आयोग, कहा - सरकार का ऐसा कोई निर्देश नही 

उन्होंने लिखा कि शिवराज जी खाओ और खाने दो की नीति और काम किस पार्टी में धड़ल्ले से चल रहा है, इसकी गवाह तो ख़ुद प्रदेश की जनता है। आप तो ख़ुद उसकी सच्चाई चुनावी क्षेत्रों के मंचो से रोज़ स्वीकार रहे है, खाने वालों के नाम पुकार रहे है।

उन्होंने आगे लिखा कि आप ख़ुद कह रहे है कि मुझे सब पता है योजनाओं में कौन-कौन पैसा खा रहा है, अदने अधिकारियों के यहाँ छापो में करोड़ों की काली कमाई निकल रही है। आप के प्रदेश प्रभारी ख़ुद आपकी पार्टी की बैठक में नसीहत देते है कि ना खाऊंगा और न खाने दूँगा सिर्फ़ मंत्रियों के लिए ही नहीं है बल्कि बीजेपी कार्यकर्ताओं के लिए भी है।

इसे भी पढ़ें:एक बार फिर फिसली बीजेपी मंत्री विजय शाह की ज़ुबान, कहा - खंडवा में बीजेपी का उम्मीदवार है कमज़ोर 

कमलनाथ ने ट्वीट किया और कहा कि आपकी सरकार ने जो गड्डे माफियाओ के लिए खोदे थे, उसमें माफिया तो गढ़े नही लेकिन उसमें माफ़ियाओं को बचाने के नाम पर की जा रही वसूली ज़रूर प्रदेश भर से रोज़ गढ़ रही है। पिछले 17 वर्षों में व्यापम , ई-टेंडर, पौधारोपण, डंपर, नर्मदा सेवा यात्रा, सिंहस्थ, ग़रीबों को सड़े गेहूँ-चावल का वितरण , कोरोना काल में तमाम फ़र्ज़ीवाडे जैसे खाओ और खाने दो के काम ही तो हुए हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।